1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Vat Savitri 2022 : सुहागिन महिलायें अखण्ड सौभाग्य के लिए रखती हैं ये व्रत, इस वृक्ष से मांगती हैं पति के दीर्घ आयु का वरदान

Vat Savitri 2022 : सुहागिन महिलायें अखण्ड सौभाग्य के लिए रखती हैं ये व्रत, इस वृक्ष से मांगती हैं पति के दीर्घ आयु का वरदान

हिंदू धर्म में व्रत उपासना की बहुत महिमा बताई गई है। सुहागिन महिलायें अखण्ड सौभाग्य के वट सावित्री का व्रत रखती है। ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वट सावित्री का व्रत किया जाता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Vat Savitri 2022 : हिंदू धर्म में व्रत उपासना की बहुत महिमा बताई गई है। सुहागिन महिलायें अखण्ड सौभाग्य के लिए वट सावित्री का व्रत रखती है। ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वट सावित्री का व्रत किया जाता है। वट सावित्री का व्रत सुहागिन महिलाएं अपने पति की दीर्घ आयु की कामना के लिए रखती हैं। सुहागिन महिलाएं यह व्रत अखंड सौभाग्य एवं संतान प्राप्ति के लिए रखती है।

पढ़ें :- साल में सिर्फ एकबार 5 घंटे के लिए खुलता है ये मन्दिर, भक्तों की आस्था से स्वयं प्रज्जवलित होती है ज्योत

पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह माना जाता है कि वट (बरगद) का पेड़ ‘त्रिमूर्ति’ को दर्शाता है, जिसका अर्थ है भगवान विष्णु, भगवान ब्रह्मा और भगवान शिव का प्रतीक होना। इस प्रकार, बरगद के पेड़ की पूजा करने से सुहागिन महिलाओं को सौभाग्य प्राप्त होता है। इस व्रत के महत्व और महिमा का उल्लेख कई धर्मग्रंथों और पुराणों जैसे स्कंद पुराण, भविष्योत्तर पुराण, महाभारत आदि में भी मिलता है।

वट सावित्री व्रत 2022
सोमवार, 30 मई, 2022
अमावस्या तिथि शुरू: 29 मई, 2022 दोपहर 02:54 बजे
अमावस्या तिथि समाप्त: 30 मई, 2022 को शाम 04:59 बजे

इस दिन सुहागिन महिलायें वट वृक्ष की पूजा के बाद वे पेड़ के तने के चारों ओर लाल या पीले रंग का पवित्र धागा बाँधते हैं। उसके बाद, महिलाएं बरगद के पेड़ को चावल, फूल और पानी चढ़ाती हैं और फिर पूजा पाठ करने के साथ पेड़ की परिक्रमा (फेरे) करती हैं।

पढ़ें :- Aaj ka Panchang: माघ शुक्ल पक्ष नवमी, जाने शुभ-अशुभ समय मुहूर्त और राहुकाल...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...