1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. Vat Savitri 2022: वट सावित्री की पूजा में जरूर शामिल करें ये सामग्री, जरूरी है मालपुए और मिष्ठान

Vat Savitri 2022: वट सावित्री की पूजा में जरूर शामिल करें ये सामग्री, जरूरी है मालपुए और मिष्ठान

हिंदू धर्म में सुहागिन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए वट सावित्री का व्रत रखती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस व्रत का पालन करने से अमर सुहाग का वरदान प्राप्त होता है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

Vat Savitri 2022 : हिंदू धर्म में सुहागिन महिलाएं पति की लंबी आयु के लिए वट सावित्री का व्रत रखती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस व्रत का पालन करने से अमर सुहाग का वरदान प्राप्त होता है। इस व्रत में वट यानी बरगद के वृक्ष की पूजा की जाती है। वट वृक्ष   में त्रिदेव का निवास होता है। मान्यता है, त्रिदेव सुहागिन महिलाओं को अखंड सौभाग्य वरदान देते है। ज्येष्ठ मास के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वट सावित्री का व्रत किया जाता है।

पढ़ें :- Falgun Month Festivals 2023 : फाल्गुन माह में महाशिवरात्रि पर्व मनाया जाता है, जानें इस माह के तीज-त्योहारों के बारे में

वट सावित्री व्रत 2022
सोमवार, 30 मई, 2022
अमावस्या तिथि शुरू: 29 मई, 2022 दोपहर 02:54 बजे
अमावस्या तिथि समाप्त: 30 मई, 2022 को शाम 04:59 बजे

पूजा सामग्री सूची  

वट सावित्री की पूजा में लगने वाली प्रमुख सामग्रियां इस प्रकार है। इसमें सावित्री-सत्यवान की मूर्ति, कच्चा सूत, बांस का पंखा, लाल कलावा, धूप-अगरबत्ती, मिट्टी का दीपक, घी, बरगद का फल, मौसमी फल जैसे आम ,लीची और अन्य फल, रोली, बताशे, फूल, इत्र, सुपारी, सवा मीटर कपड़ा, नारियल, पान, धुर्वा घास, अक्षत, सिंदूर, सुहाग का समान,  नगद रुपए और घर पर बने पकवान जैसे पूड़ियां, मालपुए और मिष्ठान जैसी सामग्रियां व्रत सावित्री पूजा के लिए जरूरी होती हैं।

पढ़ें :- Magha Purnima 2023 : माघी पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान से होती है मोक्ष की प्राप्ति ,अन्न दान का विशेष महत्व है
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...