1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. Vedanthangal Bird Sanctuary: अपने अंदर इतिहास का खजाना समेटे है ये पक्षी विहार, पक्षी प्रेमियों को करती है आकर्षित

Vedanthangal Bird Sanctuary: अपने अंदर इतिहास का खजाना समेटे है ये पक्षी विहार, पक्षी प्रेमियों को करती है आकर्षित

पंख ​होते तो उड़ जाते, ऐसी कल्पना करना पक्षियों के प्रति लगाव और सम्मान को दर्शाता है। इस जीव जगत में पक्षी सदैव संमोहित करते रहे है। वेदान्थांगल देश का सबसे पुराना जल पक्षी अभयारण्य है। वेदान्थांगल पक्षी अभयारण्य दो कारणों के लिए देश भर के पक्षी प्रेमियों का तथा पक्षी वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित करती है।

By अनूप कुमार 
Updated Date

वेदान्थांगल पक्षी विहार: पंख ​होते तो उड़ जाते, ऐसी कल्पना करना पक्षियों के प्रति लगाव और सम्मान को दर्शाता है। इस जीव जगत में पक्षी सदैव संमोहित करते रहे है। वेदान्थांगल देश का सबसे पुराना जल पक्षी अभयारण्य है। वेदान्थांगल पक्षी अभयारण्य दो कारणों के लिए देश भर के पक्षी प्रेमियों का तथा पक्षी वैज्ञानिकों का ध्यान आकर्षित करती है।  यह भारत में स्थापित किए गए प्रथम पक्षी अभयारण्यों में से एक है जिसका इतिहास ब्रिटिश शासन काल जितना पुराना है। दूसरा, इस अभयारण्य को जो राष्ट्रव्यापी महत्व मिलता है इसका श्रेय इस अभयारण्य के संरक्षण के लिए दिए गए स्थानीय समुदायों के लोगों की भागीदारी को जाता है।

पढ़ें :- Viral Video : मंदिर के सामने युवती ने इस गाने पर लगाए ठुमके, बजरंग दल बोला- हिंदू संस्कृति को बदनाम करने की साजिश  
Jai Ho India App Panchang

 

तमिल भाषा में वेदान्थंगल का अर्थ है ‘शिकारी का गांव’। 18वीं शताब्दी की शुरुआत में यह क्षेत्र स्थानीय जमींदारों का पसंदीदा शिकार स्थल था। इस क्षेत्र ने विभिन्न प्रकार के पक्षियों को आकर्षित किया क्योंकि यह छोटी झीलों से युक्त था जो पक्षियों के लिए भोजन के मैदान के रूप में थे।

 

पढ़ें :- Wedding Video: वरमाला से पहले दुल्हन ने किया ऐसा काम, देखते ही महमानों के उड़े होश

 

इसके पक्षीशास्त्रीय महत्व को समझते हुए, ब्रिटिश सरकार ने 1798 में वेदान्थंगल को पक्षी अभयारण्य के रूप में विकसित करने के लिए कदम उठाए। यह 1858 में चेंगलपट्टू के कलेक्टर के आदेश से स्थापित किया गया था। कांचीपुरम में स्थित वेदान्थंगल पक्षी अभयारण्य 30 एकड़ भूमि में फैला हुआ है। एक सर्वेक्षण के अनुसार, हर साल लगभग 40,000 प्रवासी पक्षी इस स्थल पर आते हैं।

 

इस अभयारण्य की यात्रा का सबसे अच्छा समय नवंबर से मार्च तक है। इस दौरान पक्षी अपना घोसला बनाने और उसके रखरखाव में व्यस्त नजर आते हैं।इस अभयारण्य में देखे जाने वाले दुर्लभ और विदेशी पक्षियों की प्रजातियों में कलहंस, ऑस्ट्रेलिया का ग्रे हवासील, श्रीलंका का ड़ार्टर, ग्रे बगुला, ग्लॉसी आइबिस, ओपन बिल सारस, साइबेरियाई सारस, स्पॉट बिल हंस शामिल हैं। जलपक्षियों में व्हाइट आइबिस, नाइट हेरॉन, डार्टर या स्नेकबर्ड, पिंटेल, पोंड बगुले, कॉम्ब डक, कॉमन टील्स, शॉवेलर, डाबचिक, ब्लैक-विंग्ड स्टिल्ट, लिटिल स्टिल्ट, रेड शंक, सैंड पाइपर, रिंगेड प्लोवर, कर्लेव, बब्बलर, पैराकेट्स शामिल हैं। मधुमक्खी खाने वाले, बारबेट, ड्रोंगो, कोयल। रैप्टर्स में ब्लैक विंग्ड काइट, शॉर्ट-टोड ईगल, ब्राह्मणी पतंग और पारिया काइट्स शामिल हैं।

पढ़ें :- ओ तेरी!! मां फ्लाईओवर पर नाइटी पहन करने लगी..., VIDEO वायरल होते ही पुलिस ने भेजा नोटिस

प्रमुख शहरों से दूरी

चेन्नई – 75 किलोमीटर
दिल्ली – 2244 किलोमीटर
मुंबई – 1315.8 किलोमीटर
कोलकाता – 1744 किलोमीटर
अहमदाबाद – 1826.8 किलोमीटर

 

निकटतम हवाई अड्डा
वेदान्थंगल से निकटतम हवाईअड्डा लिंक पांडिचेरी है जो लगभग 58 किलोमीटर है।

निकटतम रेलवे स्टेशन
निकटतम रेलवे स्टेशन 21 किलोमीटर दूर चेंगलपट्टू जंक्शन है।

 

पढ़ें :- Viral Video: शख्स कर रहा था खतरनाक स्टंट, अचानक चल पड़ी ट्रेन और फिर...

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...