वेंकैया नायडू ने मंत्री व सदस्यों को दी नसीहत, बोले- सदन में भीख न मांगे आप सब

Venkaiah Naidu
CJI के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव को उप राष्ट्रपति ने किया खारिज

नई दिल्ली। राज्यसभा सभापति एम. वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को मंत्रियों और सदस्यों को याद दिलाया कि वे सदन के पटल पर कागजात और रिपोर्ट आदि पेश करते वक्त “आइ बेग टू” (मैं याचना करता हूं) शब्दों के इस्तेमाल से बचें। बता दें कि अंग्रेजी के ‘बेग’ का शाब्दिक अर्थ भीख होता है। सभापति ने व्यवहार को नियंत्रित करने वाला यह नियम उस समय दिया जब केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्य मंत्री पी.पी.चौधरी सदन में अपने मंत्रालय से संबंधित दस्तावेज रखने के लिए खड़े हुए।

शुक्रवार को कानून एवं न्याय राज्यमंत्री पीपी चौधरी अपने मंत्रालय से संबंधित कागजात पेश करने के लिए खड़े हुए थे। उन्होंने कहा, “सर, विद योर परमिशन, आइ बेग टू ले ऑन द टेबल ऑफ द हाउस पेपर लिस्टेड अंडर माइ नेम…।” इस पर नायडू ने उन्हें टोकते हुए कहा, “नो बेगिंग प्लीज…।” सभापति ने कहा, “मैं पहले भी कह चुका हूं, लेकिन शायद उस समय आप उपस्थित नहीं थे। मैंने सदस्यों से कहा था कि कागजात पटल पर रखते समय सिर्फ इतना कहें- आइ सीक परमिशन टू ले पेपर्स या आइ ले द पेपर्स।”

{ यह भी पढ़ें:- जम्मू-कश्मीर : कांग्रेस नही देगी महबूबा मुफ्ती का साथ }

उन्होंने कहा, “यह अच्छा होगा अगर शब्द ‘बेगिंग’ से बचा जाए.” नायडू ने मौजूदा सत्र के पहले ही दिन सांसदों से शब्द ‘बेग’ से बचने के लिए कहा था क्योंकि ‘इससे औपनिवेशिक विरासत की बू आती है.’नायडू के यह कहने के बाद मंत्री इस शब्द का इस्तेमाल करने से बच रहे हैं। चौधरी ने भी शुक्रवार को एक अन्य मामले में दस्तावेज पेश करने के दौरान इस शब्द से परहेज किया।

{ यह भी पढ़ें:- राज्यसभा उपसभापति चुनाव: क्षेत्रीय दलों को लुभाने में लगा सत्ता पक्ष-विपक्ष }

नई दिल्ली। राज्यसभा सभापति एम. वेंकैया नायडू ने शुक्रवार को मंत्रियों और सदस्यों को याद दिलाया कि वे सदन के पटल पर कागजात और रिपोर्ट आदि पेश करते वक्त "आइ बेग टू" (मैं याचना करता हूं) शब्दों के इस्तेमाल से बचें। बता दें कि अंग्रेजी के 'बेग' का शाब्दिक अर्थ भीख होता है। सभापति ने व्यवहार को नियंत्रित करने वाला यह नियम उस समय दिया जब केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्य मंत्री पी.पी.चौधरी सदन में अपने मंत्रालय से संबंधित दस्तावेज…
Loading...