VHP नेता तोगड़िया ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, राम मंदिर समेत याद दिलाये ये वादे

VHP नेता तोगड़िया ,पीएम मोदी , राम मंदिर
VHP नेता तोगड़िया ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, राम मंदिर समेत याद दिलाये ये वादे

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को लोकसभा उपचुनाव में मिली करारी शिकस्त को लेकर विश्व हिन्दू परिषद(वीएचपी) के नेता प्रवीण तोगड़िया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। तोगड़िया ने पत्र में लिखा, “वह और उनके जैसे तमाम कार्यकर्ता रामराज्य का सपना संजोए हुए थे, लेकिन 4 साल की सरकार के बाद अब वह सपना बिखरता हुआ नजर आ रहा है। हिंदुओं के विषय में वचन पूर्ति की राह देखते हुए कई मुद्दे हैं। इन मुद्दों में सबसे पहला मुद्दा है अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर जो संसद में कानून से अब बंद ही सकता है।”

Vhp Chief Pravin Togadia Writes To Modi On Ram Mandi Issue :

प्रवीण तोगड़िया ने आगे लिखा, “चुनाव जीतना आंकड़ों, मतदाता सूची और ईवीएम का खेल है, लेकिन वादे पूरे कर प्रजा अनुकूल नेता बना जाता है। समय समय पर देश के गुजरात के और आप के भी जीवन में जो भी प्रश्न उपस्थित होते गए, हम दोनों ने साथ रहकर बहुत काम किया। हमारे घर, कार्यालय में आप का आना, साथ में भोजन चाय, ठहाके लगाकर हंसना, मुझे विश्वास है आप कुछ भी नहीं भूले होंगे।”

पत्र में आगे लिखा है कि वह अयोध्या में राम मंदिर, गोवंश हत्या बंदी का राष्ट्रीय कानून, समान नागरिक संहिता, जम्मू कश्मीर में धारा 370 और धारा 35ए हटाने सहित करोड़ों किसानों और मजदूरों के विषय पर चर्चा करना चाहते हैं। प्रवीण तोगड़िया ने लिखा, 4 साल बीत चुके हैं सरकार ने अपने तमाम वादों पर यू टर्न लिया है, लेकिन अभी भी समय है साथ में बैठकर चर्चा करके हम सब देश को हिंदुत्व और विकास के रास्ते पर आगे ले जा सकते हैं।

पत्र के मुताबिक, 3 साल से ज्यादा जनता ने राह देखी अब उनका धैर्य जवाब देने लगा है। बड़े-बड़े विज्ञापनों से, विदेशी एजेंसियों के विज्ञापन से और उत्सवों से, अब व्यक्तिगत इमेज बन सकती है, लेकिन देश और जनता तंग आ चुकी है।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी को लोकसभा उपचुनाव में मिली करारी शिकस्त को लेकर विश्व हिन्दू परिषद(वीएचपी) के नेता प्रवीण तोगड़िया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखा है। तोगड़िया ने पत्र में लिखा, "वह और उनके जैसे तमाम कार्यकर्ता रामराज्य का सपना संजोए हुए थे, लेकिन 4 साल की सरकार के बाद अब वह सपना बिखरता हुआ नजर आ रहा है। हिंदुओं के विषय में वचन पूर्ति की राह देखते हुए कई मुद्दे हैं। इन मुद्दों में सबसे पहला मुद्दा है अयोध्या में भगवान राम का भव्य मंदिर जो संसद में कानून से अब बंद ही सकता है।"प्रवीण तोगड़िया ने आगे लिखा, "चुनाव जीतना आंकड़ों, मतदाता सूची और ईवीएम का खेल है, लेकिन वादे पूरे कर प्रजा अनुकूल नेता बना जाता है। समय समय पर देश के गुजरात के और आप के भी जीवन में जो भी प्रश्न उपस्थित होते गए, हम दोनों ने साथ रहकर बहुत काम किया। हमारे घर, कार्यालय में आप का आना, साथ में भोजन चाय, ठहाके लगाकर हंसना, मुझे विश्वास है आप कुछ भी नहीं भूले होंगे।"पत्र में आगे लिखा है कि वह अयोध्या में राम मंदिर, गोवंश हत्या बंदी का राष्ट्रीय कानून, समान नागरिक संहिता, जम्मू कश्मीर में धारा 370 और धारा 35ए हटाने सहित करोड़ों किसानों और मजदूरों के विषय पर चर्चा करना चाहते हैं। प्रवीण तोगड़िया ने लिखा, 4 साल बीत चुके हैं सरकार ने अपने तमाम वादों पर यू टर्न लिया है, लेकिन अभी भी समय है साथ में बैठकर चर्चा करके हम सब देश को हिंदुत्व और विकास के रास्ते पर आगे ले जा सकते हैं।पत्र के मुताबिक, 3 साल से ज्यादा जनता ने राह देखी अब उनका धैर्य जवाब देने लगा है। बड़े-बड़े विज्ञापनों से, विदेशी एजेंसियों के विज्ञापन से और उत्सवों से, अब व्यक्तिगत इमेज बन सकती है, लेकिन देश और जनता तंग आ चुकी है।