BHU के वाइस चांसलर दिल्ली तलब, बढ़ सकती हैं मुश्किलें

Vice Chancellor Of Bhu Can Be Sent On Leave

वाराणसी। काशी स्थित बीएचयू में हुए बवाल की गाज वाइस चांसलर गिरीश चंद्र त्रिपाठी पर गिर सकती है। जिस तरह से कैम्पस में दौड़ा-दौड़ा कर छात्राओं पर लाठीयां बरसाई गयी उसकी चौतरफा निंदा हुई। मीडिया समेत सोशल मीडिया पर भी इस घटना के लिए बीएचयू प्रशासन और सरकार को खूब किरकिरी झेलनी पड़ी। जिसके बाद अब सरकार ने मामले को संज्ञान में लेते हुए चांसलर को तलब किया है। मीडिया रिपोर्ट की माने तो सरकार ने इस पूरे मामले की जांच की ज़िम्मेदारी मानव संसाधन मंत्रालय को सौपी है। जहां गिरीश चन्द्र त्रिपाठी को दिल्ली से तलब किया गया है।

वहीं, दिल्ली तलब करने पर वाइस चांसलर गिरीश चंद्र त्रिपाठी ने कहा, ‘मुझे एचआरडी मिनिस्टर ने नहीं बुलाया है और न ही मेरा फिलहाल उनसे मिलने का कोई कार्यक्रम है। हमारी यूनिवर्सिटी की एक्जीक्यूटिव काउंसिल की मीटिंग पहले से दिल्ली में तय थी क्योंकि ज्यादातर मेंबर दिल्ली में रहते हैं। अगर कोरम पूरा हुआ तो हम बनारस में भी मीटिंग कर सकते हैं, नहीं तो मैं दिल्ली जाऊंगा। आईएसी में यह मीटिंग होनी है। मैं मंत्रालय के किसी अधिकारी से भी नहीं मिल रहा हूं। मैं यूनिवर्सिटी और स्टूडेंट्स के प्रति जवाबदेह हूं, ना कि किसी सरकारी अधिकारी के प्रति।

इससे पहले लड़की से हुई छेड़छाड़ की घटना पर त्रिपाठी ने कहा था कि परिसर के अंदर बेहद ही दुर्भाग्यपूर्ण घटना हुई है। विश्वविद्यालय प्रशासन ने पहले भी इस तरह के मामले में कड़े कदम उठाए हैं और इस मामले में भी उठाएंगे। कुछ छात्राओं ने सीसीटीवी लगवाने की मांग की जिसकी प्रकिया शुरू हो गई है। कुछ छात्राओं ने मुझसे कहा कि विश्वविद्यालय प्रशासन को छात्राओं की परेशानियों की तरफ ज्यादा संवेदनशील होना चाहिए, मैं उन छात्राओं की मांग से सहमत हूं। विश्वविद्यालय प्रशासन इस पर ध्यान दे रहा है। त्रिपाठी ने कहा कि मामले की शुरूआत में छात्राओं को कुछ मुद्दे पर विश्वविद्यालय प्रशासन से शिकायत थी लेकिन अब मामला बदल गया है। बड़ी मात्रा में बाहर से लोग आए जिन्होंने इस आंदोलन को हवा देने की कोशिश की। हमें जानकारी मिली है कि बाहर से आए कुछ असमाजिक तत्वों ने विश्वविद्यालय परिसर के माहौल को खराब करने की कोशिश की।

वाराणसी। काशी स्थित बीएचयू में हुए बवाल की गाज वाइस चांसलर गिरीश चंद्र त्रिपाठी पर गिर सकती है। जिस तरह से कैम्पस में दौड़ा-दौड़ा कर छात्राओं पर लाठीयां बरसाई गयी उसकी चौतरफा निंदा हुई। मीडिया समेत सोशल मीडिया पर भी इस घटना के लिए बीएचयू प्रशासन और सरकार को खूब किरकिरी झेलनी पड़ी। जिसके बाद अब सरकार ने मामले को संज्ञान में लेते हुए चांसलर को तलब किया है। मीडिया रिपोर्ट की माने तो सरकार ने इस पूरे मामले की…