1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. विजय दिवस: 93 हजार सैनिकों के साथ पाकिस्तान ने टेके थे भारत के सामने घुटने

विजय दिवस: 93 हजार सैनिकों के साथ पाकिस्तान ने टेके थे भारत के सामने घुटने

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: आज 16 दिसंबर 1971 को भारत -पाक युद्ध में पाकिस्तान पर भारत की जीत को विजय दिवस के रूप में मना रहा है। आज के दिन 1971 में पाकिस्तानी सेना के तत्कालीन प्रमुख जनरल खान नियाजी ने 93,000 सैनिकों के साथ भारतीय सेना के सामने बिना शर्त आत्मसमर्पण कर दिया था। इस ऐतिहासिक घटना ने ही पाकिस्तान के दो टुकड़े और एक नए देश बांग्लादेश के निर्माण का मार्ग प्रशस्त किया था।

पढ़ें :- तीसरी लहर का कहर: 40 से अधिक देशों में फैला Omicron, यूरोप के कई देशों में आई संक्रमितों की बाढ़

आपको बता दें, पाकिस्तान ने जब-जब भारत से टकराने की कोशिश की है तब हिंद की सेना ने उसे कड़ा सबक सिखाया है। पाकिस्तान ने बंटवारे के बाद से भारत के साथ चार युद्ध लड़े और हर बार उसे हार का मुंह देखना पड़ा। लेकिन 1971 का पराक्रम पाकिस्तान को सबसे ज्यादा भारी पड़ा था।

इस युद्ध में भारत ने पाकिस्तान को दो टुकड़ों में बांट दिया था। आज ही के दिन पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण किया था।  पाकिस्तान पर इस ऐतिहासिक विजय को 16 दिसंबर 2021 को 50 साल पूरे हो जाएंगे। इस साल को भारत स्वर्णिम विजय वर्ष के तौर पर मना रहा है।

भारत के इतिहास की सबसे बड़ी विजय

विजय दिवस भारत के इतिहास की सबसे बड़ी विजय है। 1971 में पाकिस्तान के 93 हजार सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने सरेंडर किया था। द्वितीय विश्व युद्ध के बाद ये किसी भी देश का सबसे बड़ा सरेंडर था और आज हिंद की सेना के उसी पराक्रम के 50 साल पूरे होने के उत्सव की शुरुआत हो रही है।

पढ़ें :- PM मोदी और रुस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच मुलाकात, कहा-दुनिया बदल गई पर हमारी दोस्ती नहीं

‘विजय ज्योति यात्रा’ इस महान विजय के नायकों और युद्ध से जुड़ी जानकारियों को देश के कोने-कोने तक ले जाने का कार्यक्रम है ताकि शहीदों के बलिदान और भारतीय सेना के शौर्य की कहानियां अगली पीढ़ी तक भी पहुंचे। बता दें कि 3 दिसंबर 1971 को शाम 5 बजे पाकिस्तान के लड़ाकू विमानों ने भारत के 11 एयरबेसों पर एक साथ हमला कर दिया था। जिसके बाद 25 साल से भी कम समय में दोनों देशों के बीच तीसरा युद्ध शुरू हो गया था।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...