ब्रिटिश कोर्ट में पेश किया गया वीडियो, शख्स बोला- नीरव मोदी ने कहा है वह मुझे मरवा डालेगा

niran modi
ब्रिटिश कोर्ट में पेश किया गया वीडियो, शख्स बोला- नीरव मोदी ने कहा है वह मुझे मरवा डालेगा

भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी (Nirav Modi) से जुड़ी कंपनियों से संबंधित नकली डायरेक्टर ने कुछ वीडियो रिकार्ड किए हैं. इस वीडियो में चोरी में फंसाये जाने और हत्या करवाये जाने की धमकी जैसे आरोप शामिल हैं. केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने यह वीडियो नीरव के खिलाफ चल रही प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई के दौरान ब्रिटेन की एक कोर्ट में पेश किया. यह वीडियो जून, 2018 का है. इस हफ्ते सुनवाई के दौरान लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट में दिखाये गये इस वीडियो में छह भारतीयों को सुना जा सकता है. उनमें से हरेक ने दुबई छोड़ने और मिस्र के काहिरा आने के लिए मजबूर करने के आरोप लगाये हैं.

Video Presented In British Court Man Said Nirav Modi Has Said That He Will Get Me Killed :

नीरव ने फोन पर दी जान से मारने की धमकी

उनके अनुसार वहां उनके पासपोर्ट जब्त कर लिये गये और उन्हें उनकी मर्जी के खिलाफ नीरव के भाई नेहाल मोदी ने संदिग्ध कागजातों पर कथित रूप से दस्तखत कराये. एक व्यक्ति वीडियो में कह रहा है, मेरा नाम आशीष कुमार मोहनभाई लाड है, मैं सनसाइन जेम्स लिमिटेड, हांगकांग और दुबई के यूनिटी ट्रेडिंग फजे में हमनाम मालिक हूं. नीरव मोदी ने मुझे फोन किया और मुझसे कहा कि वह मुझे चोरी में फंसा देगा. यहां तक कि उसने मुझे जान से मरवा डालने की धमकी भी दी.

पश्चिम लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में है बंद

भारत सरकार ने बुधवार को लंदन के वेस्टमिन्सटर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सबूत पेश किए. नीरव मोदी पंजाब बैंक घोटाले का मुख्य आरोपी है. जिसे पिछले साल 19 मार्च को ब्रिटेन में गिरफ्तार किया गया था. नीरव मोदी दक्षिण पश्चिम लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में बंद है. नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन की सरकार ने पिछले साल मंजूरी दे दी थी. भारत की बैंकों के साथ 14 हज़ार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और गबन के मामले में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रही है. नीरव मोदी पर सबूत मिटाने का भी केस दर्ज किया गया है. नीरव की वकील ने दावा किया था कि उसकी ‘मानसिक हालत गंभीर’ है.

वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए कोर्ट में हुआ था पेश

गौरतलब है कि अप्रैल माह में नीरव मोदी वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश हुआ था. सुनवाई में डिस्ट्रिक्ट जज सैमुअल गोजी ने लॉकाडाउन की वजह से नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के बारे में अगले महीने होने वाली सुनवाई पर चिंता जताई लेकिन सभी पक्षों में बनी सहमति के बाद ये तय हुआ था कि अंतिम सुनवाई से पहले 7 मई को कोर्ट के कॉमन व्यूइंग प्लेटफॉर्म (CVP) के जरिए इसका परीक्षण होगा जिसमें सिर्फ वकील शामिल होंगे.  

भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी (Nirav Modi) से जुड़ी कंपनियों से संबंधित नकली डायरेक्टर ने कुछ वीडियो रिकार्ड किए हैं. इस वीडियो में चोरी में फंसाये जाने और हत्या करवाये जाने की धमकी जैसे आरोप शामिल हैं. केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने यह वीडियो नीरव के खिलाफ चल रही प्रत्यर्पण मामले की सुनवाई के दौरान ब्रिटेन की एक कोर्ट में पेश किया. यह वीडियो जून, 2018 का है. इस हफ्ते सुनवाई के दौरान लंदन की वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट में दिखाये गये इस वीडियो में छह भारतीयों को सुना जा सकता है. उनमें से हरेक ने दुबई छोड़ने और मिस्र के काहिरा आने के लिए मजबूर करने के आरोप लगाये हैं. नीरव ने फोन पर दी जान से मारने की धमकी उनके अनुसार वहां उनके पासपोर्ट जब्त कर लिये गये और उन्हें उनकी मर्जी के खिलाफ नीरव के भाई नेहाल मोदी ने संदिग्ध कागजातों पर कथित रूप से दस्तखत कराये. एक व्यक्ति वीडियो में कह रहा है, मेरा नाम आशीष कुमार मोहनभाई लाड है, मैं सनसाइन जेम्स लिमिटेड, हांगकांग और दुबई के यूनिटी ट्रेडिंग फजे में हमनाम मालिक हूं. नीरव मोदी ने मुझे फोन किया और मुझसे कहा कि वह मुझे चोरी में फंसा देगा. यहां तक कि उसने मुझे जान से मरवा डालने की धमकी भी दी. पश्चिम लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में है बंद भारत सरकार ने बुधवार को लंदन के वेस्टमिन्सटर मैजिस्ट्रेट कोर्ट में भगोड़े हीरा व्यापारी नीरव मोदी के खिलाफ सबूत पेश किए. नीरव मोदी पंजाब बैंक घोटाले का मुख्य आरोपी है. जिसे पिछले साल 19 मार्च को ब्रिटेन में गिरफ्तार किया गया था. नीरव मोदी दक्षिण पश्चिम लंदन के वैंड्सवर्थ जेल में बंद है. नीरव मोदी के भारत प्रत्यर्पण को लेकर ब्रिटेन की सरकार ने पिछले साल मंजूरी दे दी थी. भारत की बैंकों के साथ 14 हज़ार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी और गबन के मामले में सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय जांच कर रही है. नीरव मोदी पर सबूत मिटाने का भी केस दर्ज किया गया है. नीरव की वकील ने दावा किया था कि उसकी 'मानसिक हालत गंभीर' है. वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए कोर्ट में हुआ था पेश गौरतलब है कि अप्रैल माह में नीरव मोदी वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश हुआ था. सुनवाई में डिस्ट्रिक्ट जज सैमुअल गोजी ने लॉकाडाउन की वजह से नीरव मोदी के प्रत्यर्पण के बारे में अगले महीने होने वाली सुनवाई पर चिंता जताई लेकिन सभी पक्षों में बनी सहमति के बाद ये तय हुआ था कि अंतिम सुनवाई से पहले 7 मई को कोर्ट के कॉमन व्यूइंग प्लेटफॉर्म (CVP) के जरिए इसका परीक्षण होगा जिसमें सिर्फ वकील शामिल होंगे.