‘भगोड़ा’ विजय माल्या एक बार फिर हुआ गिरफ्तार, ईडी की अपील पर हुई कार्रवाई

नई दिल्ली। भारत के ‘भगोड़े’ कारोबारी विजय माल्या को मंगलवार को लंदन में गिरफ्तार कर लिया गया। मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में विजय माल्या को ईडी ने गिरफ्तार किया है। आपको बता दें कि एक बार पहले भी माल्या को गिरफ्तार किया जा चुका है और उसके बाद वेस्टमिंस्टर की अदालत ने उन्हें जमानत दे दी थी।

इससे पहले बैंकों का कर्ज न चुकाने के आरोप में भारत में वांछित भगोड़े कारोबारी विजय माल्या को बीते 18 अप्रैल को लंदन में गिरफ्तार किया गया था, हालांकि कुछ ही घंटों बाद एक स्थानीय अदालत ने उन्हें जमानत मिल गई थी। लंदन की महानगर पुलिस ने बताया कि 61 वर्षीय माल्या को मध्य लंदन के एक पुलिस थाने ले जाया गया, जहां उन्हें हिरासत में ले लिया गया था। हालांकि वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत ने माल्या को 650,000 पाउंड के मुचलके पर जमानत दे दी थी। मेट्रोपोलिटन पुलिस ने एक बयान में कहा था कि प्रत्यर्पण विभाग के अधिकारियों ने भारत से प्रत्यर्पण वारंट मिलने के बाद माल्या को हिरासत में लिया था।

{ यह भी पढ़ें:- सुप्रीम कोर्ट का आदेश, 10 जुलाई से पहले कोर्ट में हाजिर हो विजय माल्या }

माल्या पर कुल कर्ज
31 जनवरी 2014 तक किंगफिशर एयरलाइन्स पर बैंकों का 6,963 करोड़ रुपए बकाया था। इस कर्ज पर इंटरेस्ट के बाद माल्या की टोटल लायबिलिटी 9,432 करोड़ रुपए हो चुकी है। सीबीआई ने 1000 से भी ज्‍यादा पेज की चार्जशीट में कहा कि किंगफिशर एयरलाइन्स ने IDBI की तरफ से मिले 900 करोड़ रुपए के लोन में से 254 करोड़ रुपए का निजी इस्‍तेमाल किया। किंगफिशर एयरलाइन्स अक्टूबर 2012 में बंद हो गई थी। दिसंबर 2014 में इसका फ्लाइंग परमिट भी कैंसल कर दिया गया। डेट रिकवरी ट्रिब्‍यूनल ने माल्या और उनकी कंपनियों UBHL, किंगफिशर फिनवेस्ट और किंगफिशर एयरलाइन्स से 11.5% प्रति साल की ब्याज दर से वसूली की प्रॉसेस शुरू करने की इजाजत दी थी।

{ यह भी पढ़ें:- माल्या की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, लंदन पहुंची सीबीआई और ईडी की टीम }