बैंकों से बोले विजय माल्या, मेरा पैसा ले लो और जेट एयरवेज को बचा लो

vijay malya
बैंकों से बोले विजय माल्या, मेरा पैसा ले लो और जेट एयरवेज को बचा लो

नई दिल्ली। भारत के सरकारी बैंकों से हजारों करोड़ का लोन लेकर लंदन फरार हुए शराब कारोबारी विजय माल्या ने भारतीय बैंकों से अपील की है कि वह उसका पैसा लेकर कर्ज निपटारे की दिक्कतों से जूझ रही जेट एयरवेजको उबार लें।

Vijay Mallya Urged Indian Banks To Take His Money And Save Cash Strapped Jet Airways :

मंगलवार सुबह-सुबह एक के बाद एक ट्वीट किए। उसने भारतीय बैंकों से अपील की कि जेट एयरवेज को बंद होने से बचा लें। सरकारी बैंकों का पैसा लेकर फरार हुए विजय माल्या ने ट्ववीट्स में खुशी जताई कि जेट एयरवेज को बचाने के लिए बैंक आगे आए हैं। वहीं, एक अन्य ट्वीट में किंगफिशर को लेकर उनका दर्द भी छलक उठा।  

विजय माल्या ने ट्वीट कर कहा, “मैं फिर से दोहराना चाहता हूं कि मैंने सरकारी बैंकों एवं अन्य को भुगतान करने के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के समक्ष अपनी लिक्विड परिसंपत्तियों को रख दिया है। बैंक मेरा पैसा क्यों नहीं ले लेते हैं। अगर कुछ नहीं होगा तो कम से कम इससे जेट एयरवेज को बचाने में मदद मिलेगी।”  

माल्या ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर लिखा, “यह देखकर खुश हूं कि सरकारी बैंकों ने नौकरियां, कनेक्टिविटी और एंटरप्राइज को बचाने के लिए जेट एयरवेज को बेल आउट पैकेज दिया है। ऐसी ही इच्छा मुझे किंगफिशर के लिए भी थी।

” उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, “मैने कंपनी और कर्मचारियों को बचाने के लिए किंगफिशर एयरलाइन्स में 4000 करोड़ रुपये का निवेश किया। इसे नहीं देखा गया बजाए इसके इसे हर संभव तरीके से खारिज किया गया। उसी सरकारी बैंक ने भारत की सबसे बेहतरीन एयरलाइन सेवा को कनेक्टिविटी और कर्मचारियों के स्तर पर खत्म होने दिया। “

एक बिलियन डॉलर से अधिक के कर्ज में डूबी जेट पर पर बैंकों, सप्लायर्स की देनदारी और पायलट और पट्टे का भुगतान बकाया है। इनमें से अधिकांश ने कंपनी के साथ लीज को समाप्त करना भी शुरू कर दिया है। एसबीआई की अगुवाई में सरकारी बैंकों का समूह कंपनी को दीवालिया प्रक्रिया में भेजे बिना इसे संकट से निकालने की दिशा में काम कर रहा है।

नई दिल्ली। भारत के सरकारी बैंकों से हजारों करोड़ का लोन लेकर लंदन फरार हुए शराब कारोबारी विजय माल्या ने भारतीय बैंकों से अपील की है कि वह उसका पैसा लेकर कर्ज निपटारे की दिक्कतों से जूझ रही जेट एयरवेजको उबार लें।

मंगलवार सुबह-सुबह एक के बाद एक ट्वीट किए। उसने भारतीय बैंकों से अपील की कि जेट एयरवेज को बंद होने से बचा लें। सरकारी बैंकों का पैसा लेकर फरार हुए विजय माल्या ने ट्ववीट्स में खुशी जताई कि जेट एयरवेज को बचाने के लिए बैंक आगे आए हैं। वहीं, एक अन्य ट्वीट में किंगफिशर को लेकर उनका दर्द भी छलक उठा।  

https://twitter.com/TheVijayMallya/status/1110331201607401472

विजय माल्या ने ट्वीट कर कहा, "मैं फिर से दोहराना चाहता हूं कि मैंने सरकारी बैंकों एवं अन्य को भुगतान करने के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के समक्ष अपनी लिक्विड परिसंपत्तियों को रख दिया है। बैंक मेरा पैसा क्यों नहीं ले लेते हैं। अगर कुछ नहीं होगा तो कम से कम इससे जेट एयरवेज को बचाने में मदद मिलेगी।"  

https://twitter.com/TheVijayMallya/status/1110327256763764742

माल्या ने माइक्रो ब्लॉगिंग साइट पर लिखा, "यह देखकर खुश हूं कि सरकारी बैंकों ने नौकरियां, कनेक्टिविटी और एंटरप्राइज को बचाने के लिए जेट एयरवेज को बेल आउट पैकेज दिया है। ऐसी ही इच्छा मुझे किंगफिशर के लिए भी थी।

https://twitter.com/TheVijayMallya/status/1110329881857060864

" उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा, "मैने कंपनी और कर्मचारियों को बचाने के लिए किंगफिशर एयरलाइन्स में 4000 करोड़ रुपये का निवेश किया। इसे नहीं देखा गया बजाए इसके इसे हर संभव तरीके से खारिज किया गया। उसी सरकारी बैंक ने भारत की सबसे बेहतरीन एयरलाइन सेवा को कनेक्टिविटी और कर्मचारियों के स्तर पर खत्म होने दिया। "

https://twitter.com/TheVijayMallya/status/1110331201607401472

एक बिलियन डॉलर से अधिक के कर्ज में डूबी जेट पर पर बैंकों, सप्लायर्स की देनदारी और पायलट और पट्टे का भुगतान बकाया है। इनमें से अधिकांश ने कंपनी के साथ लीज को समाप्त करना भी शुरू कर दिया है। एसबीआई की अगुवाई में सरकारी बैंकों का समूह कंपनी को दीवालिया प्रक्रिया में भेजे बिना इसे संकट से निकालने की दिशा में काम कर रहा है।