गुजरात: विजय रूपाणी सीएम और नितिन पटेल होंगे उपमुख्यमंत्री

gujrat1
अमित शाह से बातचीत के बाद नितिन पटेल ने ग्रहण किया कार्यभार

नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनाव में जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने अपना मुख्यमंत्री चुन लिया है। विजय रूपाणी को राज्य का अगला मुख्यमंत्री और साथ ही नितिन पटेल को उपमुख्यमंत्री चुना गया है। नवनियुक्त विधायकों की बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद भाजपा ने इसकी घोषणा की।

Vijay Rupani To Continue As Gujarat Cm :

जेटली ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि विधायकों ने निर्विरोध रूप से रूपाणी को भाजपा विधायक दल का नेता चुना। उन्होंने बताया कि पटेल को सदन का उपनेता चुना गया है। जेटली ने बताया कि शपथ समारोह की तिथि की घोषणा अलग से की जाएगी। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के करीबी माने जाने वाले रूपाणी दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री चुने गए। भाजपा ने विधानसभा की 182 में से 99 सीटों पर जीत दर्ज की है।

लुनावाड़ा के निर्दलीय विधायक रतनसिंह राठौड़ ने भाजपा को समर्थन देने की घोषणा की है। इस समर्थन के साथ ही विधानसभा में भाजपा का आंकड़ा 100 हो गया है।

बता दें कि विजय रूपाणी का जन्म बर्मा में हुआ था। 1960 में बर्मा में राजनीतिक उथल-पुथल के चलते उनका परिवार राजकोट आ गया था। उन्होंने सौराष्ट्र विश्वविद्यालय से बीए की पढ़ाई की। एबीवीपी और आरएसएस से जुड़े रहे। इमरजेंसी के दौरान वह 11 महीने जेल भी गए।

नई दिल्ली। गुजरात विधानसभा चुनाव में जीत के बाद भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) ने अपना मुख्यमंत्री चुन लिया है। विजय रूपाणी को राज्य का अगला मुख्यमंत्री और साथ ही नितिन पटेल को उपमुख्यमंत्री चुना गया है। नवनियुक्त विधायकों की बैठक में वित्त मंत्री अरुण जेटली की अध्यक्षता में हुई बैठक के बाद भाजपा ने इसकी घोषणा की।जेटली ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा कि विधायकों ने निर्विरोध रूप से रूपाणी को भाजपा विधायक दल का नेता चुना। उन्होंने बताया कि पटेल को सदन का उपनेता चुना गया है। जेटली ने बताया कि शपथ समारोह की तिथि की घोषणा अलग से की जाएगी। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के करीबी माने जाने वाले रूपाणी दूसरी बार राज्य के मुख्यमंत्री चुने गए। भाजपा ने विधानसभा की 182 में से 99 सीटों पर जीत दर्ज की है।लुनावाड़ा के निर्दलीय विधायक रतनसिंह राठौड़ ने भाजपा को समर्थन देने की घोषणा की है। इस समर्थन के साथ ही विधानसभा में भाजपा का आंकड़ा 100 हो गया है।बता दें कि विजय रूपाणी का जन्म बर्मा में हुआ था। 1960 में बर्मा में राजनीतिक उथल-पुथल के चलते उनका परिवार राजकोट आ गया था। उन्होंने सौराष्ट्र विश्वविद्यालय से बीए की पढ़ाई की। एबीवीपी और आरएसएस से जुड़े रहे। इमरजेंसी के दौरान वह 11 महीने जेल भी गए।