विकास दुबे एनकाउंटर: एसटीएफ ने बताया-कैसे हादसे का शिकार हुई कार, जानिए पूरा मामला

kanpur
विकास दुबे एनकाउंटर: एसटीएफ ने बताया-कैसे हादसे का शिकार हुई कार, जानिए पूरा मामला

लखनऊ। कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी विकास दुबे आज पुलिस मुठभेड़ में मार दिया गया। विकास दुबे को उज्जैन से सड़क मार्ग के जरिए एसटीएफ लेकर आ रही थी। कानपुर में कार पटलने के बाद विकास दुबे पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की। पुलिस ने आत्मसमर्पण के लिए कहा लेकिन वह नहीं माना। इस दौरान पुलिस से उसकी मुठभेड़ हो गयी।

Vikas Dubey Encounter Stf Said Accident Occurred Due To The Flock Of Animals On The Road Suddenly :

मुठभेड़ में विकास दुबे को चार गोली चली, जिससे वह घायल हो गया। पुलिस टीम उसे लेकर अस्पताल पहुंची, जहां उसकी मृत्यू हो गयी। वहीं, कार पलटने को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं, जिसका एसटीएफ ने जवाब दिया है। एसटीएफ ने यह भी बताया है कि हम उसे जिंदा पकड़ने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन बचाव में किए गए फायरिंग में वह मारा गया। यूपी एसटीएफ की तरफ जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि कानपुर कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को सरकारी वाहन से उज्जैन से कानपुर लाया जा रहा था।

इसी दौरान कानपुर के सचेंडी थाना के पास एनएच पर अचानक गाय-भैंस का एक झुंड आ गया, जिसे बचाने के लिए ड्राइवर ने गाड़ी को मोड़ा लेकिन वह अनियंत्रित होकर पलट गई। इस दुर्घटना में चार पुलिसकर्मी घायल हो गए और क्षणिक रूप से अर्धचेतन अवस्था में चले गए। इसी का फायदा उठाकर दुर्दांत अपराधी विकास दुबे एक पिस्टल छीनकर भागने लगा।

एसटीएफ ने बताया कि इस घटना की जानकारी पीछे की गाड़ी में आ रहे पुलिस कर्मियों की दी गई। उन्होंने तत्काल फरार अपराधी विकास दुबे का पीछा किया। लेकिन विकास दुबे पुलिस वालों को जान से मारने के लिए छीनी गई पिस्टल से फायरिंग करने लगा। एसटीएफ का कहना है कि हमने उसे जिंदा पकड़ने की भरपूर कोशिश की लेकिन आत्मरक्षा में चलाई गई गोली में वह मारा गया।

 

लखनऊ। कानपुर एनकाउंटर का मुख्य आरोपी विकास दुबे आज पुलिस मुठभेड़ में मार दिया गया। विकास दुबे को उज्जैन से सड़क मार्ग के जरिए एसटीएफ लेकर आ रही थी। कानपुर में कार पटलने के बाद विकास दुबे पुलिस की पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश की। पुलिस ने आत्मसमर्पण के लिए कहा लेकिन वह नहीं माना। इस दौरान पुलिस से उसकी मुठभेड़ हो गयी। मुठभेड़ में विकास दुबे को चार गोली चली, जिससे वह घायल हो गया। पुलिस टीम उसे लेकर अस्पताल पहुंची, जहां उसकी मृत्यू हो गयी। वहीं, कार पलटने को लेकर कई सवाल उठ रहे हैं, जिसका एसटीएफ ने जवाब दिया है। एसटीएफ ने यह भी बताया है कि हम उसे जिंदा पकड़ने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन बचाव में किए गए फायरिंग में वह मारा गया। यूपी एसटीएफ की तरफ जारी प्रेस नोट में कहा गया है कि कानपुर कांड के मुख्य आरोपी विकास दुबे को सरकारी वाहन से उज्जैन से कानपुर लाया जा रहा था। इसी दौरान कानपुर के सचेंडी थाना के पास एनएच पर अचानक गाय-भैंस का एक झुंड आ गया, जिसे बचाने के लिए ड्राइवर ने गाड़ी को मोड़ा लेकिन वह अनियंत्रित होकर पलट गई। इस दुर्घटना में चार पुलिसकर्मी घायल हो गए और क्षणिक रूप से अर्धचेतन अवस्था में चले गए। इसी का फायदा उठाकर दुर्दांत अपराधी विकास दुबे एक पिस्टल छीनकर भागने लगा। एसटीएफ ने बताया कि इस घटना की जानकारी पीछे की गाड़ी में आ रहे पुलिस कर्मियों की दी गई। उन्होंने तत्काल फरार अपराधी विकास दुबे का पीछा किया। लेकिन विकास दुबे पुलिस वालों को जान से मारने के लिए छीनी गई पिस्टल से फायरिंग करने लगा। एसटीएफ का कहना है कि हमने उसे जिंदा पकड़ने की भरपूर कोशिश की लेकिन आत्मरक्षा में चलाई गई गोली में वह मारा गया।