वोट मांगने गये बीजेपी सांसद व विधायक को ग्रामीणों ने भगाया

d

देवरिया। लोकसभा चुनाव में बीजेपी भले ही पीएम मोदी के कार्यों की तारीफ कर रही हो मगर प्रत्याशियों को क्षेत्र में भारी विरोध झेलना पड़ रहा है। खासकर उन उम्मीदवारों की मुश्किलें ज्यादा हैं जो वर्तमान में सांसद हैं और दुबारा उसी क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं।

Villagers Clashed With Bjp Mp Mla In Deoria :

गुरुवार शाम को जनसंपर्क के दौरान सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद एवं बीजेपी प्रत्याशी रविंद्र कुशवाहा और विधायक काली प्रसाद की ग्रामीणों से बहस हो गई। गांव वालों ने सांसद को गाड़ी से नीचे नहीं उतरने दिया और नौबत हाथापाई तक पहुंच गई। कुछ बुजुर्गों ने काफी मशक्कत के बाद किसी तरह सांसद और विधायक को गांव से बाहर निकाला।

सांसद की गाड़ी जब गांव में पहुंची तो कुछ लोगों ने यह कहकर विरोध करना शुरू कर दिया कि सांसद के यहां किसी काम से जाने पर वह पहचानते नहीं हैं और वहां मौजूद लोग अपमान भी करते हैं। इस बात को लेकर सांसद व विधायक ग्रामीणों से उलझ गए। ग्रामीणों का कहना है कि सांसद और विधायक ने गांव के युवकों को गाली दी और कहा कि हमें तुम लोगों का वोट नहीं चाहिए। इस पर उत्तेजित ग्रामीण सांसद के काफिले को गांव से बाहर भगाने लगे।

देवरिया। लोकसभा चुनाव में बीजेपी भले ही पीएम मोदी के कार्यों की तारीफ कर रही हो मगर प्रत्याशियों को क्षेत्र में भारी विरोध झेलना पड़ रहा है। खासकर उन उम्मीदवारों की मुश्किलें ज्यादा हैं जो वर्तमान में सांसद हैं और दुबारा उसी क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं। गुरुवार शाम को जनसंपर्क के दौरान सलेमपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद एवं बीजेपी प्रत्याशी रविंद्र कुशवाहा और विधायक काली प्रसाद की ग्रामीणों से बहस हो गई। गांव वालों ने सांसद को गाड़ी से नीचे नहीं उतरने दिया और नौबत हाथापाई तक पहुंच गई। कुछ बुजुर्गों ने काफी मशक्कत के बाद किसी तरह सांसद और विधायक को गांव से बाहर निकाला। सांसद की गाड़ी जब गांव में पहुंची तो कुछ लोगों ने यह कहकर विरोध करना शुरू कर दिया कि सांसद के यहां किसी काम से जाने पर वह पहचानते नहीं हैं और वहां मौजूद लोग अपमान भी करते हैं। इस बात को लेकर सांसद व विधायक ग्रामीणों से उलझ गए। ग्रामीणों का कहना है कि सांसद और विधायक ने गांव के युवकों को गाली दी और कहा कि हमें तुम लोगों का वोट नहीं चाहिए। इस पर उत्तेजित ग्रामीण सांसद के काफिले को गांव से बाहर भगाने लगे।