यूपी, एमपी और राजस्थान में भारत बंद प्रदर्शन के दौरान 9 की मौत

Violence During Bharat Band Protest,
यूपी, एमपी और राजस्थान में भारत बंद के दौरान 9 की मौत

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की ओर से एससी एसटी एक्ट 1989 के तहत आरोपी की तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाए जाने के विरोध में दलितों संगठनों द्वारा बुलाए गए भारत बंद के दौरान यूपी, एमपी और राजस्थान में कई जगह हुई हिंसक घटनाओं में 9 लोगों के मारे जाने की खबरें सामने आई हैं। एमपी में सर्वाधिक 6 लोगों की जान गई है, जबकि उत्तर प्रदेश में दो और राजस्थान में एक युवक की मौत हुई है।

भारत बंद के दौरान सबसे ज्यादा हिंसक घटनाए एमपी में सामने आई हैं। मुरैना में प्रदर्शनकारियों की गोली से एक युवक की मौत होने की खबर के बाद भड़की हिंसा में तीन लोग मारे गए। जिसका असर ग्वालियर में भी देखने को मिला जहां दो लोगों की मौत हुई। वहीं एक व्यक्ति के देवरा में मारे जाने की जानकारी भी समाने आई है। हिंसा को देखते हुए मुरैना, भिंड, देवरा, लहार, गोहद, मेहगांव, ग्वालियर और सागर में कर्फ्यू लगाया गया है। कई जहों पर सोशल मीडिया पर रोक लागने के लिए इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गईं हैं।

{ यह भी पढ़ें:- अलवर मॉब लिचिंग : पहले पुलिस वालों ने पी चाय, फिर ले गए थाने }

वहीं यूपी की बात करें तो मुजफ्फरनगर और मेरठ में भारत बंद के दौरान बड़ी हिंसक घटनाएं सामने आईं। जहां हिंसक प्रदर्शनकारियों ने कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया जबकि मेरठ में प्रदर्शनकारियों ने एक पुलिस चौकी को फूंक दिया।

यूपी पुलिस के मुताबिक दलितों के प्रदर्शन में दो लोगों की मौत हुई, जबकि 35 से ज्यादा लोगों को गंभीर चोटें आईं हैं। पुलिस ने 400 से अधिक लोगों को हिरासत में लिया है और हिंसाग्रस्त इलाकों के धारा 144 लागू की गई है।

{ यह भी पढ़ें:- SC की सख्त टिप्पणी : मंदिर निजी संपत्ति नहीं, महिलाओं को भी प्रवेश का अधिकार }

राजस्थान में भी बिगड़े हालात—

दलितों के खिलाफ हिंसा का आए दिन साक्षी बनने वाले राजस्थान में भी भारत बंद के दौरान बाड़मेर, अलवर, सीकर, झुंझुनू, जालौर और बीकानेर शहरों में इंटरनेट सेवाएं बंद की गई हैं। यहां अलवर में एक युवक की मौत होने की पुष्टि हुई है। जिसके बाद अलवर के दाउदपुर इलाके में प्रदर्शनकारियों ने रेल की पटरी को उखड़ दिया। जिस वजह से रेल यातायात भी प्रभावित हुआ है।

इसके साथ ही खैरथल में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस थाने को फूंक दिया और मौके पर मौजूद डिप्टी एसपी के साथ भी मार पीट होने की जानकारी मिली है। बाडमेर, भरतपुर, सांचौर, पुष्कर और जयपुर से भी हिंसक प्रदर्शन और आगजनी की घटनाएं सामने आईं हैं।

झारखंड, उत्तराखंड, हरियाणा, महाराष्ट्र और पंजाब में भी दिखा असर—

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक झारखंड में 1500 प्रदर्शनकारियों की गिरफ्तारी की गई है। ​प्रदर्शनकारियों और पुलिस के बीच हुई झड़प में 10 पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं।

{ यह भी पढ़ें:- समलैंगिक संबंध अपराध है या नही, केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट पर छोड़ा फैसला }

उत्तराखंड में गोली लगने से एक व्यक्ति घायल हुआ है। हरियाणा और पंजाब में भी हिंसा और आगजनी की छुट पुट घटनाएं सामने आईं हैं। पंजाब सरकार ने एतिहातन सोमवार को होने वाली 10वीं और 12वीं की बोर्ड परिक्षाओं को टाल दिया था।

महाराष्ट्र में भी दलित प्रदर्शनकारियों ने कुछ जगहों पर छुटपुट तोड़फोड़ की है। हालांकि महाराष्ट्र के हालात नियंत्रित बताए जा रहे हैं।

 

{ यह भी पढ़ें:- ताजमहल को लेकर केंद्र पर बरसा सुप्रीम कोर्ट, कहा- सहेज नहीं सकते, तो ढहा दो }

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट की ओर से एससी एसटी एक्ट 1989 के तहत आरोपी की तुरंत गिरफ्तारी पर रोक लगाए जाने के विरोध में दलितों संगठनों द्वारा बुलाए गए भारत बंद के दौरान यूपी, एमपी और राजस्थान में कई जगह हुई हिंसक घटनाओं में 9 लोगों के मारे जाने की खबरें सामने आई हैं। एमपी में सर्वाधिक 6 लोगों की जान गई है, जबकि उत्तर प्रदेश में दो और राजस्थान में एक युवक की मौत हुई है। भारत बंद के…
Loading...