पश्चिम बंगाल में नहीं थम रही हिंसा, टीएमसी के तीन कार्यकर्ताओं की मौत, सुरक्षा बल तैनात

tmc
पश्चिम बंगाल में नहीं थम रही हिंसा, टीएमसी के तीन कार्यकर्ताओं की मौत, सुरक्षा बल तैनात

कोलकता। पश्चिम बंगाल में चल रही हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। हर रोज वहां पर हिंसा में लोग मारे जा रहे हैं। बीजेपी और टीएमसी के बीच चल रही राजनीतिक तनातनी के बीच अब कांग्रेस भी बीच में आ गयी है। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में हुई हिंसा में तीन टीएमसी के कार्यकर्ताओं की मौत हो गई है। स्थानीय सूत्र और पुलिस के मुताबिक, शनिवार सुबह टीएमसी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई।

Violence Not In West Bengal Three Workers Of Tmc Killed Security Forces Deployed :

इसमें टीएमसी कार्यकर्ता खैरुद्दीन शेख और सोहेल राणा और एक अन्य कार्यकर्ता की मौत हो गई। वहीं इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान ढोमकोल पंचायत समिति के अल्ताफ हुसैन की भी हत्या कर दी गयी थी। इस घटना के मुख्य आरोपी को कुछ दिन बाद रिहा कर दिया गया था। बताया जा रहा है कि सोहेल राणा अल्ताफ हुसैन का बेटा है और खैरुद्दीन शेख उसका बड़ा भाई है।

इस घटना के बाद इलाके में भारी पुलिस बल तैनात है। कार्यकर्ताओं की मौत के पीछे टीएमसी ने कांग्रेस का हाथ बताया है। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद से ही वहां पर बवाल जारी है। बीजेपी और टीएमसी के बीच चल रही तनातनी और हिंसा में आए दिन हत्याएं हो रहीं हैं।

कोलकता। पश्चिम बंगाल में चल रही हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। हर रोज वहां पर हिंसा में लोग मारे जा रहे हैं। बीजेपी और टीएमसी के बीच चल रही राजनीतिक तनातनी के बीच अब कांग्रेस भी बीच में आ गयी है। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में हुई हिंसा में तीन टीएमसी के कार्यकर्ताओं की मौत हो गई है। स्थानीय सूत्र और पुलिस के मुताबिक, शनिवार सुबह टीएमसी और कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हुई। इसमें टीएमसी कार्यकर्ता खैरुद्दीन शेख और सोहेल राणा और एक अन्य कार्यकर्ता की मौत हो गई। वहीं इससे पहले लोकसभा चुनाव के दौरान ढोमकोल पंचायत समिति के अल्ताफ हुसैन की भी हत्या कर दी गयी थी। इस घटना के मुख्य आरोपी को कुछ दिन बाद रिहा कर दिया गया था। बताया जा रहा है कि सोहेल राणा अल्ताफ हुसैन का बेटा है और खैरुद्दीन शेख उसका बड़ा भाई है। इस घटना के बाद इलाके में भारी पुलिस बल तैनात है। कार्यकर्ताओं की मौत के पीछे टीएमसी ने कांग्रेस का हाथ बताया है। गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल में लोकसभा चुनाव के ऐलान के बाद से ही वहां पर बवाल जारी है। बीजेपी और टीएमसी के बीच चल रही तनातनी और हिंसा में आए दिन हत्याएं हो रहीं हैं।