वायरस विशेषज्ञ वी रवि का दावा- लॉकडाउन खत्म हुआ तो दिसंबर तक आधी आबादी हो सकती है संक्रमित

corona
यूपी: 24 घंटे में सर्वाधिक 2529 नए केस मिले, आंकड़ा 58 हजार के पार

नई​ दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस संक्रमितो की संख्या एक लाख 73 हजार के पार पहुंच चुकी है वहीं कल से लॉकडाउन 4 भी समाप्त हो रहा है। वरिष्ठ वायरस विशेषज्ञ वी रवि ने कहा है कि यदि देश में लॉकडाउन को खत्म कर दिया जाता है तो कोरोना वायरस केसों की संख्या तेजी से बढ़ेगी। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस (NIMHANS) के न्यूरोवायरोलॉजी विभाग के हेड और कोरोना वायरस महामारी को लेकर कर्नाटक सरकार की ओर से गठित टास्क फोर्स के नोडल ऑफिसर वी रवि ने देश में कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड को लेकर चेतावनी दी है।

Virus Expert V Ravi Claims Half Of Population May Be Infected By December If Lockdown Ends :

एक रिपोर्ट के मुताबिक वी रवि ने कहा, ”देश में यदि 31 मई को लॉकडाउन 4.0 की समाप्ति हो जाती है तो जून से कोरोना वायरस केसों की संख्या तेजी से बढ़ेगी और सामुदायिक स्तर पर प्रसार होगा।” उन्होंने कहा कि दिसंबर के अंत तक देश की आधी जनसंख्या संक्रमित हो चुकी होगी। हालांकि, 90 फीसदी लोगों को पता भी नहीं चलेगा कि उन्हें कोरोना संक्रमण हुआ था।

उन्होंने कहा, ”केवल 5-10 फीसदी केसों में हाई-फ्लो ऑक्सिजन की मदद से इलाज की जरूरत होगी और केवल 5 फीसदी को वेंटिलेटर की आवश्यकता होगी।” उन्होंने राज्यों को सलाह दी कि स्वास्थ्य ढांचे को तैयार रखना चाहिए। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने सभी राज्य सरकारों को सभी जिलों में कम से कम दो टेस्टिंग लैब बनाने का निर्देश दिया है। बुधवार को कर्नाटक 60 लैब का टारगेट पूरा करने वाला पहला राज्य बन गया।

देश में कोरोना मृत्यु दर को लेकर वी रवि ने कहा कि यह देश में 3-4 पर्सेंट रहा है, गुजरात में सबसे अधिक 6 फीसदी मृत्यु दर है। उन्होंने कहा, ”वैक्सीन के लिए हमें अगले साल मार्च तक इंतजार करना पड़ेगा। लोग सभी तरह की सावधानी रखते हुए कोविड-19 के साथ जीना सीख जाएंगे। कोरोना वायरस इबोला, मार्स और सार्स की तरह जानलेवा नहीं है।”

गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए 24 मार्च से ही लॉकडाउन लागू है। अभी लॉकडाउन का चौथा चरण चल रहा है जो कल खत्म हो रहा है। अभी सरकार ने यह घोषणा नहीं कि है कि 1 जून से देश में लॉकडाउन का पांचवां चरण शुरू होगा या नहीं। देश में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड करीब 8 हजार कोरोना संक्रमण के नए केस मिले हैं तो 11 हजार से अधिक रिकवर हुए हैं।

नई​ दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस संक्रमितो की संख्या एक लाख 73 हजार के पार पहुंच चुकी है वहीं कल से लॉकडाउन 4 भी समाप्त हो रहा है। वरिष्ठ वायरस विशेषज्ञ वी रवि ने कहा है कि यदि देश में लॉकडाउन को खत्म कर दिया जाता है तो कोरोना वायरस केसों की संख्या तेजी से बढ़ेगी। नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंस (NIMHANS) के न्यूरोवायरोलॉजी विभाग के हेड और कोरोना वायरस महामारी को लेकर कर्नाटक सरकार की ओर से गठित टास्क फोर्स के नोडल ऑफिसर वी रवि ने देश में कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड को लेकर चेतावनी दी है। एक रिपोर्ट के मुताबिक वी रवि ने कहा, ''देश में यदि 31 मई को लॉकडाउन 4.0 की समाप्ति हो जाती है तो जून से कोरोना वायरस केसों की संख्या तेजी से बढ़ेगी और सामुदायिक स्तर पर प्रसार होगा।'' उन्होंने कहा कि दिसंबर के अंत तक देश की आधी जनसंख्या संक्रमित हो चुकी होगी। हालांकि, 90 फीसदी लोगों को पता भी नहीं चलेगा कि उन्हें कोरोना संक्रमण हुआ था। उन्होंने कहा, ''केवल 5-10 फीसदी केसों में हाई-फ्लो ऑक्सिजन की मदद से इलाज की जरूरत होगी और केवल 5 फीसदी को वेंटिलेटर की आवश्यकता होगी।'' उन्होंने राज्यों को सलाह दी कि स्वास्थ्य ढांचे को तैयार रखना चाहिए। इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने सभी राज्य सरकारों को सभी जिलों में कम से कम दो टेस्टिंग लैब बनाने का निर्देश दिया है। बुधवार को कर्नाटक 60 लैब का टारगेट पूरा करने वाला पहला राज्य बन गया। देश में कोरोना मृत्यु दर को लेकर वी रवि ने कहा कि यह देश में 3-4 पर्सेंट रहा है, गुजरात में सबसे अधिक 6 फीसदी मृत्यु दर है। उन्होंने कहा, ''वैक्सीन के लिए हमें अगले साल मार्च तक इंतजार करना पड़ेगा। लोग सभी तरह की सावधानी रखते हुए कोविड-19 के साथ जीना सीख जाएंगे। कोरोना वायरस इबोला, मार्स और सार्स की तरह जानलेवा नहीं है।'' गौरतलब है कि देश में कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए 24 मार्च से ही लॉकडाउन लागू है। अभी लॉकडाउन का चौथा चरण चल रहा है जो कल खत्म हो रहा है। अभी सरकार ने यह घोषणा नहीं कि है कि 1 जून से देश में लॉकडाउन का पांचवां चरण शुरू होगा या नहीं। देश में पिछले 24 घंटे में रिकॉर्ड करीब 8 हजार कोरोना संक्रमण के नए केस मिले हैं तो 11 हजार से अधिक रिकवर हुए हैं।