विवेक की पत्नी बोली, डीएम ने कहा न दो मामले को तूल, हर काम के आओगी हमारे पास

vivek tiwari murder case
विवेक की पत्नी बोली, डीएम ने कहा न दो मामले को तूल, हर काम के आओगी हमारे पास

लखनऊ। गोमतीनगर इलाके में शुक्रवार देर रात हुई एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक​ तिवारी की हत्या के बाद सत्ता के गलियारों से पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के होश उड़े हुए है। पुलिस कर्मियों द्वारा निर्दोश पति को मौत के घाट उतारने से नाराज विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी भी लगातार सरकार पर हमला बोल रही है। उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों को किसने ये अधिकार दे दिया कि वो इस तरह किसी भी आम आदमी को सरेराह गोली मार दे।

Vivek Tiwaris Wife Said Dm Lucknow Make Presure On Me And My Family :

बता दें कि विवेक की मौत होने की पुष्टि होने के बाद से ही उनकी पत्नी कल्पना तिवारी इस मांग पर अंड़ी थी कि जब तक मुख्यमंत्री मौके पर आकर ये जबाव नही दे देते कि पुलिसकर्मियों ने विवेक की हत्या क्यों कि और अब उनकी मौत के बाद उनका व उनकी बेटियों का क्या होगा।

बता दें कि कल्पना और विवेक की बड़ी बेटी प्रियांशी ने इस मामले अहम खुलासे किए है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री के आने पर ही विवेक का अंतिम संस्कार किए जाने की मांग करने के बाद डीएम व एसएसपी उनके घर पहुंचे और उनपर दबाव बनाया। प्रियांशी ने मीडिया को बताया कि डीएम और पुलिस वाले करीब दो घंटे तक कमरे में रहे। वो लोग मां के ऊपर मामले को तूल न देने का दबाब बना रहे थे। कल्पना ने बताया कि डीएम ने कहा कि याद रखो बाद में तुम्हे हर काम के लिए हमारे पास ही आना पड़ेगा।

लखनऊ। गोमतीनगर इलाके में शुक्रवार देर रात हुई एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक​ तिवारी की हत्या के बाद सत्ता के गलियारों से पुलिस प्रशासन के अधिकारियों के होश उड़े हुए है। पुलिस कर्मियों द्वारा निर्दोश पति को मौत के घाट उतारने से नाराज विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी भी लगातार सरकार पर हमला बोल रही है। उनका कहना है कि पुलिसकर्मियों को किसने ये अधिकार दे दिया कि वो इस तरह किसी भी आम आदमी को सरेराह गोली मार दे। बता दें कि विवेक की मौत होने की पुष्टि होने के बाद से ही उनकी पत्नी कल्पना तिवारी इस मांग पर अंड़ी थी कि जब तक मुख्यमंत्री मौके पर आकर ये जबाव नही दे देते कि पुलिसकर्मियों ने विवेक की हत्या क्यों कि और अब उनकी मौत के बाद उनका व उनकी बेटियों का क्या होगा। बता दें कि कल्पना और विवेक की बड़ी बेटी प्रियांशी ने इस मामले अहम खुलासे किए है। उनका कहना है कि मुख्यमंत्री के आने पर ही विवेक का अंतिम संस्कार किए जाने की मांग करने के बाद डीएम व एसएसपी उनके घर पहुंचे और उनपर दबाव बनाया। प्रियांशी ने मीडिया को बताया कि डीएम और पुलिस वाले करीब दो घंटे तक कमरे में रहे। वो लोग मां के ऊपर मामले को तूल न देने का दबाब बना रहे थे। कल्पना ने बताया कि डीएम ने कहा कि याद रखो बाद में तुम्हे हर काम के लिए हमारे पास ही आना पड़ेगा।