अगस्ता घोटाला : 225 करोड़ की घूस लेने वाले क्रिश्चियन मिशेल को लाया गया भारत

agasta scam
अगस्ता घोटाला : 225 करोड़ की घूस लेने वाले क्रिश्चियन मिशेल को लाया गया भारत

नई दिल्ली। वीवीआईपी हेलिकॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड डील में घोटाले की जांच कर रही सीबीआई को इस मामले में बड़ी कामयाबी मिली है। इस जहाज की डील में मिशेल ने बिचौलिए का काम किया था, जिसमें उसने करोड़ो रूपए का घपला कर दिया था। मिशेल दुबई जेल में बंद था, जो प्रत्यर्पण के तहत मंगलवार रात को भारत पहुंचा। सूत्रो के मुताबिक अब उसे चिकित्सीय परीक्षण के बाद सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।

Vvip Chopper Agasta Deal Middleman Christian Michel Extradited To India From Bubai By Cbi :

बता दें कि दुबई सरकार ने मिशेल के प्रत्यर्पण को पहले ही मंजूरी दे दी। जिसके खिलाफ मिशेल ने अदालत में याचिका दायर की थी, जो खारिज हो गई थी। मिशेल दुबई में अपनी गिरफ्तारी के बाद से जेल में था और उसे यूएई में कानूनी और न्यायिक कार्यवाही के लंबित रहने तक हिरासत में भेज दिया गया था।

सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक मिशेल पर इस डील में सह-आरोपियों के साथ मिलकर साजिश रचने का आरोप है। इसके तहत अधिकारियों ने अपने पद का दूरूपयोग करते हुए वीवीआईपी हेलिकॉप्टर की ऊंचाई 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर कर अपने सरकारी पद का दुरुपयोग किया। भारत सरकार ने आठ फरवरी 2010 को रक्षा मंत्रालय के जरिए ब्रिटेन की अगस्ता वेस्टलैंड इंटरनेशनल लिमिटेड को लगभग 55.62 करोड़ यूरो का ठेका दिया था। ईडी ने मिशेल के खिलाफ जून, 2016 में दाखिल अपने चार्जशीट में कहा था कि मिशेल को अगस्ता वेस्टलैंड से 225 करोड़ रुपये मिले थे। चार्जशीट के मुताबिक वह राशि और कुछ नहीं बल्कि कंपनी की ओर से दी गयी रिश्वत थी।

नई दिल्ली। वीवीआईपी हेलिकॉप्टर अगस्ता वेस्टलैंड डील में घोटाले की जांच कर रही सीबीआई को इस मामले में बड़ी कामयाबी मिली है। इस जहाज की डील में मिशेल ने बिचौलिए का काम किया था, जिसमें उसने करोड़ो रूपए का घपला कर दिया था। मिशेल दुबई जेल में बंद था, जो प्रत्यर्पण के तहत मंगलवार रात को भारत पहुंचा। सूत्रो के मुताबिक अब उसे चिकित्सीय परीक्षण के बाद सीबीआई की विशेष अदालत में पेश किया जाएगा।बता दें कि दुबई सरकार ने मिशेल के प्रत्यर्पण को पहले ही मंजूरी दे दी। जिसके खिलाफ मिशेल ने अदालत में याचिका दायर की थी, जो खारिज हो गई थी। मिशेल दुबई में अपनी गिरफ्तारी के बाद से जेल में था और उसे यूएई में कानूनी और न्यायिक कार्यवाही के लंबित रहने तक हिरासत में भेज दिया गया था।सीबीआई के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक मिशेल पर इस डील में सह-आरोपियों के साथ मिलकर साजिश रचने का आरोप है। इसके तहत अधिकारियों ने अपने पद का दूरूपयोग करते हुए वीवीआईपी हेलिकॉप्टर की ऊंचाई 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर कर अपने सरकारी पद का दुरुपयोग किया। भारत सरकार ने आठ फरवरी 2010 को रक्षा मंत्रालय के जरिए ब्रिटेन की अगस्ता वेस्टलैंड इंटरनेशनल लिमिटेड को लगभग 55.62 करोड़ यूरो का ठेका दिया था। ईडी ने मिशेल के खिलाफ जून, 2016 में दाखिल अपने चार्जशीट में कहा था कि मिशेल को अगस्ता वेस्टलैंड से 225 करोड़ रुपये मिले थे। चार्जशीट के मुताबिक वह राशि और कुछ नहीं बल्कि कंपनी की ओर से दी गयी रिश्वत थी।