लखनऊ में लर्निंग लाइसेंस की वेटिंग एक माह तक जा पंहुची, पहले से कई गुना बढ़े आवेदक

DL
लखनऊ में लर्निंग लाइसेंस की वेटिंग एक माह तक जा पंहुची, पहले से कई गुना बढ़े आवेदक

लखनऊ। नये मोटर व्हीकल कानून में जबसे ड्राइविंग लाइसेंस का जुर्माना 500 रूपये से बढ़ाकर 5000 हजार कर दिया गया तभी से डीएल के आवेदकों की लखनऊ के आरटीओ आफिसों में कतारें लगी हैं। जी हां लखनऊ में इस समय लर्निंग लाइसेंस के लगभग 35 हजार आवेदक हो गये हैं और वेटिंग लगभग एक माह की मिल रही है।

Waiting Of Learning License Reached In Lucknow For One Month Applicants Increased Manifold :

आरटीओ हो या एआरटीओ आफिस, पहले की अपेक्षा अब रोजाना दो गुना लर्निंग लाइसेंस जारी किये जा रहे हैं। लेकिन इतने ज्यादा आवेदन हो रहे हैं कि अब वेटिंग एक माह तक पंहुच गयी है। लर्निंग लाइसेंस बनने के बाद हालांकि उसकी वैधता 6 माह तक होती है लेकिन एक माह बाद वह परमानेंट लाइसेंस बनवा सकता है। हर आवेदक चाहता है कि उसका जल्दी ही नम्बर आ जाये। अब परमानेंट डीएल के लिए भी वेटिंग मिल रही है।

आपको बता दें कि जबसे मोटर व्हीकल कानून में संसोधन हुआ है तबसे हेल्मेट लगाने की बात हो या कागजात पूरा रखने की। हर मामले में लोग पहले से जागरूक नजर आ रहे हैं। पहले से अब हर तरह के चालान में जुर्माना कई गुना बढ़ा दिया गया है, ऐसे में लोग कोई भी ऐसी कमिया नही छोड़ना चाहते जिससे उनका चालान कट सके। ये नियम यूपी की राजधानी में भी काफी कारगर साबित हो रहा है।

लखनऊ। नये मोटर व्हीकल कानून में जबसे ड्राइविंग लाइसेंस का जुर्माना 500 रूपये से बढ़ाकर 5000 हजार कर दिया गया तभी से डीएल के आवेदकों की लखनऊ के आरटीओ आफिसों में कतारें लगी हैं। जी हां लखनऊ में इस समय लर्निंग लाइसेंस के लगभग 35 हजार आवेदक हो गये हैं और वेटिंग लगभग एक माह की मिल रही है। आरटीओ हो या एआरटीओ आफिस, पहले की अपेक्षा अब रोजाना दो गुना लर्निंग लाइसेंस जारी किये जा रहे हैं। लेकिन इतने ज्यादा आवेदन हो रहे हैं कि अब वेटिंग एक माह तक पंहुच गयी है। लर्निंग लाइसेंस बनने के बाद हालांकि उसकी वैधता 6 माह तक होती है लेकिन एक माह बाद वह परमानेंट लाइसेंस बनवा सकता है। हर आवेदक चाहता है कि उसका जल्दी ही नम्बर आ जाये। अब परमानेंट डीएल के लिए भी वेटिंग मिल रही है। आपको बता दें कि जबसे मोटर व्हीकल कानून में संसोधन हुआ है तबसे हेल्मेट लगाने की बात हो या कागजात पूरा रखने की। हर मामले में लोग पहले से जागरूक नजर आ रहे हैं। पहले से अब हर तरह के चालान में जुर्माना कई गुना बढ़ा दिया गया है, ऐसे में लोग कोई भी ऐसी कमिया नही छोड़ना चाहते जिससे उनका चालान कट सके। ये नियम यूपी की राजधानी में भी काफी कारगर साबित हो रहा है।