15 करोड़ वाले बयान पर वारिस पठान ने मांगी माफी, बोले- अपने शब्द वापस लेता हूं

waris pathan
15 करोड़ वाले बयान पर वारिस पठान ने मांगी माफी, बोले- अपने शब्द वापस लेता हूं

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता वारिस पठान ने ’15 करोड़’ वाले अपने बयान पर माफी मांग ली है। पठान ने अपने बयान में “15 करोड़ (मुस्लिमों) के 100 करोड़ बहुसंख्यकों (हिंदुओं) पर भारी पड़ने” की बात कही थी। बताया जाता है कि वारिस पठान को इस बयान पर उनकी पार्टी के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने जमकर लताड़ा है और उनसे इस पर स्पष्टीकरण भी मांगा है।  

Waris Pathan Apologizes On The Statement Of 15 Crores Said I Take Back My Words :

एआईएमआईएम के राष्ट्रीय प्रवक्ता वारिस पठान मुंबई की भायखला विधानसभा सीट से विधायक रहे चुके हैं। ‘100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी पड़ेंगे’ इस बयान के बाद वारिस पठान चौतरफा घिरे। विपक्षी पार्टियों ने तो उन्हें घेरा ही, खुद उनकी पार्टी ने भी उन्हें इस संबंध में नोटिस जारी कर दिया। शुरुआत में तो वारिस पठान ने कहा कि वह अपने बयान पर कायम रहेंगे लेकिन अब उन्होंने इसपर माफी मांग ली है।

‘साजिश के तहत पार्टी और मुझे बदनाम किया जा रहा है’

वारिस पठान ने राजनीतिक साजिश का आरोप लगाते हुए कहा है, ‘राजनीतिक साजिश के तहत मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है और मुझे और मेरी पार्टी को बदनाम किया जा रहा है। अगर इस बयान से किसी को दुख पहुंचा है तो मैं उसके लिए माफी मांगता हूं और मैं अपने बयान को वापस लेता हूं।’  

वारिस पठान के बयान पर दर्ज हुई एफआइआर

ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेता वारिस पठान ने पिछले दिनों सीएए के विरोध में आयोजित एक रैली में कहा था कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे। हमें साथ चलना होगा। हमें आजादी लेनी होगी, जो चीजें मांगने से नहीं मिलतीं, वह छीनकर लेनी होती हैं, याद रखिए…(हम) 15 करोड़ हैं, लेकिन 100 करोड़ पर भारी हैं।

वहीं, कर्नाटक के कलबुर्गी पुलिस ने भड़काऊ भाषण देने के लिए एआइएमआइएम के नेता वारिस पठान के खिलाफ अलग-अलग घाराओं के तहत एफआइआर दर्ज की है। पुलिस ने पठान के खिलाफ दंगा भड़काने के इरादे से लोगों को उसाने के मामले में आइपीसीसी की धारा 117, 153 और विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना के लिए धारा 153A के तहत केस दर्ज किया गया है।

नई दिल्ली। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नेता वारिस पठान ने '15 करोड़' वाले अपने बयान पर माफी मांग ली है। पठान ने अपने बयान में "15 करोड़ (मुस्लिमों) के 100 करोड़ बहुसंख्यकों (हिंदुओं) पर भारी पड़ने'' की बात कही थी। बताया जाता है कि वारिस पठान को इस बयान पर उनकी पार्टी के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने जमकर लताड़ा है और उनसे इस पर स्पष्टीकरण भी मांगा है।   एआईएमआईएम के राष्ट्रीय प्रवक्ता वारिस पठान मुंबई की भायखला विधानसभा सीट से विधायक रहे चुके हैं। '100 करोड़ पर 15 करोड़ भारी पड़ेंगे' इस बयान के बाद वारिस पठान चौतरफा घिरे। विपक्षी पार्टियों ने तो उन्हें घेरा ही, खुद उनकी पार्टी ने भी उन्हें इस संबंध में नोटिस जारी कर दिया। शुरुआत में तो वारिस पठान ने कहा कि वह अपने बयान पर कायम रहेंगे लेकिन अब उन्होंने इसपर माफी मांग ली है। 'साजिश के तहत पार्टी और मुझे बदनाम किया जा रहा है' वारिस पठान ने राजनीतिक साजिश का आरोप लगाते हुए कहा है, 'राजनीतिक साजिश के तहत मेरे बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है और मुझे और मेरी पार्टी को बदनाम किया जा रहा है। अगर इस बयान से किसी को दुख पहुंचा है तो मैं उसके लिए माफी मांगता हूं और मैं अपने बयान को वापस लेता हूं।'   वारिस पठान के बयान पर दर्ज हुई एफआइआर ऑल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के नेता वारिस पठान ने पिछले दिनों सीएए के विरोध में आयोजित एक रैली में कहा था कि 15 करोड़, 100 करोड़ पर भारी पड़ेंगे। हमें साथ चलना होगा। हमें आजादी लेनी होगी, जो चीजें मांगने से नहीं मिलतीं, वह छीनकर लेनी होती हैं, याद रखिए...(हम) 15 करोड़ हैं, लेकिन 100 करोड़ पर भारी हैं। वहीं, कर्नाटक के कलबुर्गी पुलिस ने भड़काऊ भाषण देने के लिए एआइएमआइएम के नेता वारिस पठान के खिलाफ अलग-अलग घाराओं के तहत एफआइआर दर्ज की है। पुलिस ने पठान के खिलाफ दंगा भड़काने के इरादे से लोगों को उसाने के मामले में आइपीसीसी की धारा 117, 153 और विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना के लिए धारा 153A के तहत केस दर्ज किया गया है।