वॉशिंगटन पोस्ट के संपादक का बीजेपी नेता को जवाब, कहा-स्वतंत्र पत्रकारिता सरकारों को रिझाने के लिए नहीं होती

Jeff bezos
वॉशिंगटन पोस्ट के संपादक का बीजेपी नेता को जवाब, कहा-स्वतंत्र पत्रकारिता सरकारों को रिझाने के लिए होती

नई दिल्ली। अमेजन के फाउंडर और सीईओ जेफ बेजोस का अखबार वाशिंगटन पोस्ट केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ लिखता रहता है। इसके चलते जब जेफ बेजोस वापस आए तो बीजेपी की आलोचना का उन्हें सामना करना पड़ा था। वहीं, विदेशों में बीजेपी के मामले देखने वाले विजय चौथाईवाले की वॉशिंगटन पोस्ट के सीनियर एडिटर एली लोपेज से सोशल मीडिया पर बहस हो गई।

Washington Post Editors Reply To Bjp Leader Said Independent Journalism Was Meant To Woo Governments :

इस दौरान चौथाईवाले ने ट्विट कर कहा कि, ‘मिस्टर जेफ बेजोस, वॉशिंगटन में अपने कर्मचारियों को समझाइए, नहीं तो आपका रिझाने का प्रयास समय और पैसा बर्बाद करने जैसा होगा।’ वहीं इस पर लोपेज ने ट्वीट कर कहा कि, यह बात बेजोस नहीं बताते कि क्या लिखना है और क्या नहीं लिखना। स्वतंत्र पत्रकारिता सरकारों को रिझाने के लिए नहीं होती।

हमारे पत्रकारों और कॉलमिस्ट का काम भारतीय लोकतंत्र की परंपराओं के मुताबिक होता है, इस पर सवाल नहीं उठाए जा सकते। बता दें कि हाल के दिनों मेें अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस तीन दिनों के लिए भारत दौरे पर आए थे। पहले उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्योग एवं रेलवे मंत्री पीयूष गोयल से मिलने की अटकलें लगाई जा रही थीं। गोयल ने कहा था कि बेजोस भारत में एक अरब डॉलर का निवेश कर रहे हैं, लेकिन ये कोई उपकार नहीं है।

नई दिल्ली। अमेजन के फाउंडर और सीईओ जेफ बेजोस का अखबार वाशिंगटन पोस्ट केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ लिखता रहता है। इसके चलते जब जेफ बेजोस वापस आए तो बीजेपी की आलोचना का उन्हें सामना करना पड़ा था। वहीं, विदेशों में बीजेपी के मामले देखने वाले विजय चौथाईवाले की वॉशिंगटन पोस्ट के सीनियर एडिटर एली लोपेज से सोशल मीडिया पर बहस हो गई। इस दौरान चौथाईवाले ने ट्विट कर कहा कि, 'मिस्टर जेफ बेजोस, वॉशिंगटन में अपने कर्मचारियों को समझाइए, नहीं तो आपका रिझाने का प्रयास समय और पैसा बर्बाद करने जैसा होगा।' वहीं इस पर लोपेज ने ट्वीट कर कहा कि, यह बात बेजोस नहीं बताते कि क्या लिखना है और क्या नहीं लिखना। स्वतंत्र पत्रकारिता सरकारों को रिझाने के लिए नहीं होती। हमारे पत्रकारों और कॉलमिस्ट का काम भारतीय लोकतंत्र की परंपराओं के मुताबिक होता है, इस पर सवाल नहीं उठाए जा सकते। बता दें कि हाल के दिनों मेें अमेजन के फाउंडर जेफ बेजोस तीन दिनों के लिए भारत दौरे पर आए थे। पहले उनकी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्योग एवं रेलवे मंत्री पीयूष गोयल से मिलने की अटकलें लगाई जा रही थीं। गोयल ने कहा था कि बेजोस भारत में एक अरब डॉलर का निवेश कर रहे हैं, लेकिन ये कोई उपकार नहीं है।