1. हिन्दी समाचार
  2. कागजों में दौड़ रहा गोमती सफाई का काम, जल निगम ने केंद्र सरकार से मांगे 2500 करोड़

कागजों में दौड़ रहा गोमती सफाई का काम, जल निगम ने केंद्र सरकार से मांगे 2500 करोड़

Water Corporation Has Demanded 2500 Crores From The Central Government

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। गोमती सफाई को लेकर वर्ष 1992 में शुरू हुआ प्लान 27 साल बाद भी कागजों में दौड़ रहा है। इसके कारण गोमती दिन पर दिन दूषित होती जा रही है। एनजीटी की अनुश्रवण समिति की रिपोर्ट में गोमती में बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर चिंता जताई गयी है। वहीं अब, गोमती नदी की सेहत सुधारने के लिए जल निगम जगा है। जल निगम ने केंद्र सरकार से 2500 करोड़ रुपये की मांग की है। विभाग का कहना है कि, यह बजट मिले तो नालों और सीवर का गंदा पानी सीधे गोमती नदी में नहीं गिरेगा।

पढ़ें :- नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ग्यावली भारत के दौरे पर आएंगे, क्या सुधरेंगे रिश्ते?

जल निगम के जीएम एसके गुप्ता ने बताया कि नैशनल मिशन फार क्लीनिंग गंगा योजना के तहत केंद्र सरकार से बजट मांगा गया है। उनका कहना है कि शहर के 26 नाले सीधे गोमती में गिर रहे हैं। इसको रोकने के लिए यह प्रस्ताव बनाया गया है। विभाग की तरफ से यह मांग तब ​की गई है जब एनजीटी की अनुश्रवण समिति ​की रिपोर्ट में गोमती नदी में बढ़ते प्रदूषण को लेकर चिंता जताई गयी है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि, गोमती में स्नान करना तो दूर उसके किनारे टहलने से बीमार हो सकते हैं। रिपोर्ट में गोमती सफाई में शामिल विभागों को लापरवाह बताया गया है। इसके साथ ही अफसरों पर कार्रवाई का सुझाव दिया गया है। बता दें कि शहर में गोमती की कुल लंबाई करीब 30 किलोमीटर तक है।

पांच नये पंपिंग सेट और दो सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की तैयारी
गोमती में सीधे गिर रहे नालों को रोकने के लिए पांच नये पंपिंग सेट और दो सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने की तैयारी है। इसके लिए नमामि गंगे प्रोजेक्ट के तहत 298 करोड़ रुपये का बजट जारी कर दिया गया है। जल निगम के अधिकारियों ने बताया कि इस बजट से दौलतगंज में 39 एमएलडी और 56 एमएलडी के दो एसटीपी बनाए जायेंगे। इसके साथ ही नगरिया, सरकटा, पाटा और बरी कला में पांच पंपिंग स्टेशन बनेंगे। इनकी मदद से सीवर लाइन और नालों का पानी इन सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट तक भेजा जायेगा।

इन जगहों पर गिर रहे हैं नाले
— सिस गोमती : गऊघाट, नगरिया, सरकटा, पाटा, वजीरगंज, घसियारी मंडी, एनईआर अपस्ट्री, एनईआ डाउन स्ट्रीम, चाइना बाजार, लाप्लास, जॉपलिंग रोड, जीएच कैनाल, जियामऊ और लामार्ट।
— ट्रांस गोमती : महेशगंज, रूपपुर खदरा, मोहन मीकिंग, डालीगंज नंबर 1, आटर्स कालेज, हुनमान सेतु, टीजीपीएस।

पढ़ें :- 4 दिसंबर का राशिफल: इस राशि के जातकों को रखना होगा सेहत का ध्यान, जानिए बाकी राशि का हाल

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...