1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम किसान हैं, गुंडे नहीं , गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ नहीं है

बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम किसान हैं, गुंडे नहीं , गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ नहीं है

केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने प्रेस कांफ्रेंस कर किसानों को मवाली बता दिया है। उन्होंने यहां तक कह दिया है कि वे किसान नहीं हैं। उन्होंने तर्क दिया कि इस प्रदर्शन की आड़ में कुछ बिचौलियों की मदद की जा रही है। मीनाक्षी लेखी की टिप्पणी पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ नहीं है।

By संतोष सिंह 
Updated Date

We Are Farmers Not Hooligans Farmers Are Anndatas Of The Land Rakesh Tikait

नई दिल्ली। केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी ने प्रेस कांफ्रेंस कर किसानों को मवाली बता दिया है। उन्होंने यहां तक कह दिया है कि वे किसान नहीं हैं। उन्होंने तर्क दिया कि इस प्रदर्शन की आड़ में कुछ बिचौलियों की मदद की जा रही है। मीनाक्षी लेखी की टिप्पणी पर बीकेयू नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ नहीं है। किसानों के लिए इस तरह की टिप्पणी करना गलत है। हम किसान हैं, गुंडे नहीं। किसान जमीन के अन्नदाता हैं।

पढ़ें :- UP Assembly Election 2022: यूपी की राजनीति में ब्राम्हण जब याद आए तो बहुत याद आए

केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी ने गुरुवार को प्रेस कांफ्रेंस कर ‘पेगासस जासूसी कांड’ को फेक बताया है। इसके साथ ही उन्होंने एमनेस्टी ने लिस्ट को नकारा है। उन्होंने कहा कि ये पूरा मामला फेक है। इसके जरिए देश की छवि पर प्रहार किया गया है। इसके बावजूद विपक्ष संसद की कार्यवाही में बाधा डाल रहा है।

कांग्रेस और टीएमसी का बर्ताव बिलकुल ठीक नहीं है। एनएसओ ने भी लिस्ट से इनकार किया है।मीनाक्षी की नजरों में किसान आंदोलन की आड़ में पॉलिटिकल एजेंडे को धार दी जा रही है। उन्होंने कहा कि सिर्फ एक नेरेटिव को आगे बढ़ाया जा रहा है। वहीं विदेश राज्य मंत्री ने जोर देकर कहा कि भारत सरकार अपने लोगों के डाटा प्रोटेक्शन को लेकर संवेदनशील है। किसी भी कीमत पर उसके साथ समझौता नहीं किया जाएगा। उनकी तरफ से स्पष्ट कर दिया है कि पैगासस विवाद के जरिए जनता के मुद्दों को नजरअंदाज करने का प्रयास किया जा रहा है।

गुरुवार को संसद में टीएमसी सांसद शांतनु सेन की हरकत पर भी मीनाषी लेखी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। आईटी मंत्री अश्विनी वैष्णव के हाथ से पेपर छीनने पर मीनाषी ने तल्ख अंदाज में कहा है कि टीएमसी के झूठे नेरेटिव का पर्दाफाश हो गया है?

पढ़ें :- अहंकारी रवैया छोड़ मानसून सत्र में कृषि कानूनों को रद्द करे मोदी सरकार : मायावती

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X