कमजोर पड़ा निसर्ग बड़ा खतरा टला, तेज हवाओं के साथ बारिश जारी

2-11

मुंबई: चक्रवाती तूफान निसर्ग महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकराया. मुंबई में निसर्ग तूफान अलीबाग के तट से टकराया. हालांकि तूफान का मुंबई के लिए खतरा लगभग खत्म हो चुका है. वहीं मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश जारी रहेगी. साथ ही हवाएं 50 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से नहीं चलेंगी.

Weak Nature Was A Big Threat Rain Continued With Strong Winds :

महाराष्ट्र में तेज हवाओं और बारिश के कारण कई जगहों पर पेड़ टूटकर गिर गए. तूफान के मद्देनजर बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर ट्रैफिक की आवाजाही रोक दी गई. महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई हैं. मुंबई, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है. ऐसे में लोगों को घरों से बाहर ना निकलने की सलाह दी गई है. वही मुंबई एयरपोर्ट पर भी शाम सात बजे तक आवाजाही को रोक दिया गया है.

चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गईं. इसमें मुंबई में 8 टीमें, रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है. वहीं, कुछ टीमों को स्टैंडबाई पर रखा गया था. बता दें कि दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है. पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी.

120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार

बता दें कि मौसम विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से चक्रवाती तूफान करीब 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से टकराया. जिसके बाद मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश देखी गई. तूफान के टकराने से पहले मौसम विभाग ने मुंबई में हाई टाइड के आने की आशंका भी जताई. मौसम विभाग ने बुधवार रात 9:48 बजे मुंबई में हाई टाइड की चेतावनी दी.

घरों में रहने की हिदायत

महाराष्ट्र के तट से निसर्ग तूफान के टकराने के बाद रत्नागिरी इलाके में समंदर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने लगीं. वहीं चक्रवात निसर्ग के असर से उठी लहरें इतनी ऊंची थी कि समंदर किनारे बंधे जहाज भी हिलने लगे. फिलहाल तेज हवा और बारिश के बीच लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी जा रही है. वहीं, तटीय इलाकों में जाने से रोका गया है.

मुंबई: चक्रवाती तूफान निसर्ग महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से टकराया. मुंबई में निसर्ग तूफान अलीबाग के तट से टकराया. हालांकि तूफान का मुंबई के लिए खतरा लगभग खत्म हो चुका है. वहीं मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश जारी रहेगी. साथ ही हवाएं 50 किमी प्रति घंटे से ज्यादा की रफ्तार से नहीं चलेंगी. महाराष्ट्र में तेज हवाओं और बारिश के कारण कई जगहों पर पेड़ टूटकर गिर गए. तूफान के मद्देनजर बांद्रा-वर्ली सी लिंक पर ट्रैफिक की आवाजाही रोक दी गई. महाराष्ट्र में एनडीआरएफ की टीमें तैनात की गई हैं. मुंबई, ठाणे, रायगढ़, रत्नागिरी में तेज हवाओं के साथ बारिश हो रही है. ऐसे में लोगों को घरों से बाहर ना निकलने की सलाह दी गई है. वही मुंबई एयरपोर्ट पर भी शाम सात बजे तक आवाजाही को रोक दिया गया है. चक्रवात से निपटने के लिए एनडीआरएफ की 20 टीमें तैनात की गईं. इसमें मुंबई में 8 टीमें, रायगढ़ में 5 टीमें, पालघर में 2 टीमें, थाने में 2 टीमें, रत्नागिरी में 2 टीमें और सिंधूदुर्ग में 1 टीम की तैनाती है. वहीं, कुछ टीमों को स्टैंडबाई पर रखा गया था. बता दें कि दो हफ्ते में देश को दूसरे समुद्री तूफान का सामना करना पड़ रहा है. पहले अम्फान ने पश्चिम बंगाल और ओडिशा में तबाही मचाई थी. 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार बता दें कि मौसम विभाग के मुताबिक महाराष्ट्र के तटीय इलाकों से चक्रवाती तूफान करीब 120 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से टकराया. जिसके बाद मुंबई के ज्यादातर इलाकों में तेज हवाओं के साथ बारिश देखी गई. तूफान के टकराने से पहले मौसम विभाग ने मुंबई में हाई टाइड के आने की आशंका भी जताई. मौसम विभाग ने बुधवार रात 9:48 बजे मुंबई में हाई टाइड की चेतावनी दी. घरों में रहने की हिदायत महाराष्ट्र के तट से निसर्ग तूफान के टकराने के बाद रत्नागिरी इलाके में समंदर में ऊंची-ऊंची लहरें उठने लगीं. वहीं चक्रवात निसर्ग के असर से उठी लहरें इतनी ऊंची थी कि समंदर किनारे बंधे जहाज भी हिलने लगे. फिलहाल तेज हवा और बारिश के बीच लोगों को घरों में रहने की हिदायत दी जा रही है. वहीं, तटीय इलाकों में जाने से रोका गया है.