अच्छा… तो इन बॉलीवुड हीरोइनों को फॉलो करते है अखिलेश

लखनऊ। यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री व सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव शनिवार को एक न्यूज़ वेबसाइट में इंटरव्यू के लिए पहुंचे। इस दौरान अखिलेश ने राजनीतिक जीवन के अलावा अपने पर्सनल लाइफ से जुड़े कई महत्वपूर्ण खुलासे किए। कालेज के दिनों को याद करते हुए अखिलेश भावुक हुए वहीं पत्नी डिम्पल यादव से जुड़े सवालों पर बेबाकी से जबाब दिया। फेबरेट बॉलीवुड हीरोइन पूछे जाने पर कहा, ये पुराना सवाल है ये पूछिए मैं किसे फॉलो करता हूँ। सवाल दोहराए जाने पर अखिलेश ने कहा कि आफिसियल अकाउंट से बहुत कम को फॉलो करता हूँ। लेकिन कुछ को फॉलो जरूर करता हूँ।

दोस्त की अहमियत
अखिलेश ने अपने मिलिट्री स्कूल को जिक्र करते हुए बताया कि मैंने वही सीखा की दोस्तों की अहमियत क्या होती है, सच्चा दोस्त कभी भी आपको मुसीबत में अकेला नहीं छोड़ सकता। सुबह 6 बजे से लेकर 10 बजे तक कैसे डिसिप्लिन में रहना है। दोस्त कितना साथ दे सकते हैं और दोस्त कितना धोखा दे सकते हैं, ये मिलिट्री स्कूल में सीखा।

{ यह भी पढ़ें:- अखिलेश की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में मुलायम के करीबियों को जगह, शिवपाल नदारद }

इंजीनियरिंग में बैक
इंजीनियरिंग में बैक लगने के सवाल पर अखिलेश ने कहा- ‘मेरी बैक तो इतनी लगी, जितनी यहां किसी बच्चे की नहीं लगी होगी। मैं जब 1ST सेमेस्टर में था तो हम सब रिजल्ट देखने गए। वहां नोटिस बोर्ड पर रिजल्ट लगा था। उसपर दो सब्जेक्ट के नाम लिखे थे। मैं खुश हुआ कि दो ही सब्जेक्ट में फेल हुआ। फिर बाद में पता चला कि ये वो दो सब्जेक्ट थे जिसमें मैं पास हुआ हूं। लेकिन जब 1ST सेमेस्टर खत्म हुआ तो मैंने सभी सबजेक्ट्स को क्ल‍ियर किया।

बॉलीवुड हीरोइनों में दिलचस्पी
बॉलीवुड हीरोइनों में कौन पसंद है पूछे जाने पर अखिलेश ने कहा कि ‘ये पुराना सवाल है। आप ये पूछिए मैं किसको फॉलो करता हूं। इस पर अखिलेश से पूछा गया- अच्छा, बता दीजिए, ट्विटर पर किसको फॉलो करते हैं। इस पर अखिलेश ने कहा- ‘वेरीफाइड अकाउंट से बहुत कम लोगों को फॉलो करता हूं। हां, अनवेरिफाइड से कई लोगों को फॉलो करता हूं।’

{ यह भी पढ़ें:- अयोध्या में सियासी संग्राम, उद्घाटन से पहले तोड़ा गया शिलापट्ट }

भौकाल वाली जिप्सी
कालेज के दिनों में भौकाल बहुत मायने रखता था, जब मेरे को एहसास हुआ कि मेरे भौकाल में कमी आ रही हैं तो मैंने पापा से बोल कालेज में जिप्सी मंगवा ली थी। जिसके बाद फिर से भौकाल मेनटेन हो गया। हालांकि जब मैं सिडनी गया तो इन सब बातों को भूल गया। वहां मैं एक साधारण स्टूडेंट की तरह रहा।