1. हिन्दी समाचार
  2. कैब और एनआरसी के विरोध में सड़क पर उतरीं पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी

कैब और एनआरसी के विरोध में सड़क पर उतरीं पश्चिम बंगाल की CM ममता बनर्जी

West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee Came Out On The Road To Protest Against Cab And Nrc

By बलराम सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। तृणमूल कांग्रेस की मुखिया और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण (एनआरसी) के खिलाफ विरोध मार्च निकाला। नागरिकता संशोधन कानून तथा राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण के खिलाफ मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के नेतृत्व में तृणमूल कांग्रेस की ओर से कोलकाता में जुलूस निकाला गया। दोपहर में डॉक्टर भीमराव अंबेडकर की मूर्ति के पास तृणमूल कार्यकर्ता एकत्र हुए।

पढ़ें :- लाल किले पर किसानों ने फहराया अपना झंडा, आईटीओ पर प्रदर्शनकारियों ने की पत्थरबाजी

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने लोगों से नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ शांतिपूर्ण प्रदर्शन की अपील के बावजूद रविवार को लगातार तीसरे दिन राज्य के विभिन्न हिस्सों से उग्र विरोध-प्रदर्शन की तस्वीरें सामने आई। विभिन्न जिलों में कई जगहों पर ट्रेनें रोकी गई, रेल पटरियों व सड़कों पर आगजनी की गई। स्थिति की समीक्षा करने के लिए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने रविवार देर शाम अपने आवास पर आला अधिकारियों की उपस्थिति में एक बैठक बुलाई जिसमें स्पष्ट कहा कि हिंसक प्रदर्शन बर्दास्त नहीं किया जाएगा और पुलिस प्रशासन को इससे सख्ती से निपटना होगा। बैठक में मुख्य सचिव, गृह सचिव, राज्य के पुलिस महानिदेशक समेत कई आला अधिकारी उपस्थित रहे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सांप्रदायिक शक्तियों की आड़ में कुछ लोग राज्य को अशांत करने की कोशिश कर रहे हैं और इस तरह का हिंसक विरोध प्रदर्शन और सरकारी संपतियों को नुकसान पहुंचाना किसी भी कीमत पर बर्दास्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि विरोध शांतिपूर्वक होना चाहिए। ममता बनर्जी ने विभिन्न जिलों के पुलिस अधीक्षकों को इस तरह से जारी हिंसक प्रदर्शन को रोकने का निर्देश दिया और कहा कि इस तरह एक के बाद एक जिले में विरोध की फैल रही आग को जल्द काबू करना होगा।

नागरिकता संशोधन कानून के विरोध के चलते बीते दो दिनों में दपूरे और पूर्व रेलवे के विभिन्न स्टेशनों में तोड़फोड़ और आगजनी से रेलवे को 100 करोड़ से अधिक का नुकसान हुआ है। रेल सूत्रों के अनुसार बीते शुक्रवार और शनिवार को उलूबेरिया, बाउडि़या, सांकराइल, नलपुर स्टेशनों में उत्पातियों द्वारा तोड़फोड़ और आगजनी की घटनाओं से ट्रेनें रद किए जाने से अकेले दक्षिण पूर्व रेलवे को 15,77,33,779 करोड़ का नुकसान उठाना पड़ा।

पूर्व रेलवे के बेलडांगा, सुजनीपाड़ा, कृष्णपुर, लालगोला समेत अन्य स्टेशनों व ट्रेनों में तोड़फोड़, आगजनी की घटनाओं से 85 करोड़ से अधिक का नुकसान होने का अनुमान लगाया गया है। दपूरे और पूर्व रेलवे को हिंसा की वजह से कुल मिलाकर बीते दो दिनों में सौ करोड़ से अधिक का नुकसान होने का अनुमान लगाया जा रहा है।

पढ़ें :- 72वें गणतंत्र दिवस पर सेलिब्स ने दी बधाई, अमिताभ ने किया तिरंगे को सलाम तो जॉन ने लिखा-तन मन धन

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...