पश्चिम बंगाल: मुहर्रम पर ममता.. दुर्गा विसर्जन पर रोक

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में हर्षो-उल्लास से मनाया जाने वाला दुर्गा पूजा का विसर्जन और मुहर्रम इस वर्ष भी एक ही साथ पड़ गया है, जिसके बाद सीएम ममता बनर्जी ने एक फैसला सुनाया है जिससे विवाद बढ़ता दिख रहा है। दरअसल, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बार भी मोहर्रम के चलते दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी है। भाजपा ने इस फैसले की निंदा करते हुए ममता पर वोट की राजनीति करने का आरोप लगाया है।

विवाद बढ़ता देख ममता ने सफाई भी दी है जिसके अनुसार इस वर्ष दुर्गा पूजा और मुहर्रम एक ही दिन पड़ रहा है। मोहर्रम के 24 घंटों को छोड़कर 2, 3 और 4 अक्टूबर को मूर्ति विसर्जन किया जा सकता है। इसलिए मुहर्रम के जुलूसों के चलते दुर्गा प्रतिमा के विसर्जन पर यह रोक रहेगी। कोलकाता हाईकोर्ट में पिछले साल दायर की गई तमाम जनहित याचिकाओं के बावजूद इस साल भी ऐसा किया जा रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- 'पद्मावती' के स्वागत को तैयार हैं ममता बनर्जी, बोली- रिलीज के लिये खास इंतजाम भी कर देंगे }

बताते चलें कि पिछले साल भी इसी तरह राज्य सरकार ने मूर्ति विसर्जन पर प्रतिबंध जारी किया था। जिस वजह से विजय दशमी मुहर्रम से एक दिन पहले मनाया गया था। पिछले साल 11 अक्टूबर को दशहरा था और 13 अक्टूबर को मोहर्रम। हालांकि, कोलकाता हाई कोर्ट ने सरकार के निर्णय को “मनमाना” करार दिया था और ‘जनता के अल्पसंख्यक वर्ग को खुश करने’ का राज्य द्वारा ‘स्पष्ट प्रयास’ कहा था।

Loading...