1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पश्चिम बंगाल: कालीघाट काली मंदिर का कपाट भक्तों के लिए खुला, मंदिर में पूजा करने से मिलता है पुण्य

पश्चिम बंगाल: कालीघाट काली मंदिर का कपाट भक्तों के लिए खुला, मंदिर में पूजा करने से मिलता है पुण्य

पश्चिम बंगाल में जारी कोरोना संकट के बीच बंद पड़े ऐतिहासिक शक्तिपीठ कालीघाट को फिर से मंगलवार को भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिया गया। इसके पहले मई महीने में पश्चिम बंगाल में कोरोना को लेकर सख्ती के ऐलान के साथ ही सारे धार्मिक स्थलों के साथ कालीघाट को भी बंद किया गया था।

By अनूप कुमार 
Updated Date

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में जारी कोरोना संकट के बीच बंद पड़े ऐतिहासिक शक्तिपीठ कालीघाट को फिर से मंगलवार को भक्तों के दर्शन के लिए खोल दिया गया। इसके पहले मई महीने में पश्चिम बंगाल में कोरोना को लेकर सख्ती के ऐलान के साथ ही सारे धार्मिक स्थलों के साथ कालीघाट को भी बंद किया गया था। एक माह से भी अधिक समय ‌के बाद आज आखिरकार कालीघाट मंदिर खोल दिया गया है। भक्त सुबह 8 बजे से दोपहर 12 बजे तक मंदिर में प्रवेश कर सकेंगे। हालांकि, मंदिर के अधिकारियों ने कहा कि दर्शनार्थियों को गर्भगृह में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जायेगी।

पढ़ें :- Bhauma Pradosh Vrat 2021: भौम प्रदोष व्रत है आज ,भक्तों को मिलेगी ग्रह के दोष से भी मुक्ति

काली मंदिर के 51 शक्तिपीठों में से एक कालीघाट है। यहां माता सती के दाएं पांव के अंगूठे को छोड़कर चारों उंगलियां गिरी थी। यहां की शक्ति कालिका और भैरव नकुलेश हैं। कालीघाट में मां काली की भव्य प्रतिमा विराजमान है। इस मंदिर को जाग्रत माना जाता है। हिंदू धर्मग्रंथों में जिक्र है कि ‘कालीघाट मंदिर में पूजा करने से पुण्य मिलता है और हर मनोकामना पूरी होती है

पश्चिम बंगाल अब कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आई है, तो मंदिर को कोरोना नियमों के अनुसार फिर से खोल दिया गया। तारकेश्वर और तारापीठ के मंदिर पिछले सप्ताह खोले गए हैं। अब दक्षिण कोलकाता के सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक कालीघाट मंदिर साल भर बड़ी संख्या में भक्तों से भरा रहता है। मंगलवार सुबह देखा मंदिर के बाहर लंबी लाइन दिखी, लेकिन सभी नियमों का पालन करते हुए लाइन में खड़े रहे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...