पश्चिमी विक्षोभ 29–30 मई को दिलाएगा गर्मी से राहत, फिलहाल पारा 47 के पार

गर्मियों में लू से बचने के लिए रोजाना पिएं ये जूस

नई दिल्ली । भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि उत्तर और मध्य भारत के कई हिस्सों में चल रहीं गर्म हवाएं अगले 24 घंटों के दौरान जारी रहने की संभावना है। उत्तर और मध्य भारत भीषण गर्मी की चपेट में है और कुछ स्थानों पर तापमान 47 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो गया है। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 29 और 30 मई को कुछ राहत देने की संभावना है।

Western Disturbance Will Bring Relief From Heat On 29 30 May Currently Crossing Mercury 47 :

आईएमडी ने कहा कि उत्तर-पश्चिम भारत, मध्य भारत के मैदानी इलाकों और पूर्वी भारत के आसपास के आंतरिक भागों में प्रचलित शुष्क उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण, अगले 24 घंटों के दौरान मौजूदा गर्म लू के थपेड़ों वाली स्थिति के बने रहने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और पूर्वी राजस्थान, और पंजाब, बिहार, झारखंड, ओडिशा, सौराष्ट्र और कच्छ, मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा, तेलंगाना और उत्तर आंतरिक कर्नाटक में यह गर्म हवाएं जारी रहेंगी।

आईएमडी ने बताया कि हालांकि पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 29 और 30 मई को कुछ राहत देने की संभावना है। इस अवधि के दौरान, उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में धूल भरी आंधी और गरज के साथ बौछार होने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ एक चक्रवाती परिसंचरण है, जो भूमध्य सागर में उत्पन्न होता है। मध्य एशिया को पार करते हुए, यह हिमालय के संपर्क में आने पर पहाड़ियों और मैदानों में बारिश लाता है।

नई दिल्ली । भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा है कि उत्तर और मध्य भारत के कई हिस्सों में चल रहीं गर्म हवाएं अगले 24 घंटों के दौरान जारी रहने की संभावना है। उत्तर और मध्य भारत भीषण गर्मी की चपेट में है और कुछ स्थानों पर तापमान 47 डिग्री सेल्सियस से अधिक हो गया है। पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 29 और 30 मई को कुछ राहत देने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि उत्तर-पश्चिम भारत, मध्य भारत के मैदानी इलाकों और पूर्वी भारत के आसपास के आंतरिक भागों में प्रचलित शुष्क उत्तर-पश्चिमी हवाओं के कारण, अगले 24 घंटों के दौरान मौजूदा गर्म लू के थपेड़ों वाली स्थिति के बने रहने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और पूर्वी राजस्थान, और पंजाब, बिहार, झारखंड, ओडिशा, सौराष्ट्र और कच्छ, मध्य महाराष्ट्र और मराठवाड़ा, तेलंगाना और उत्तर आंतरिक कर्नाटक में यह गर्म हवाएं जारी रहेंगी। आईएमडी ने बताया कि हालांकि पश्चिमी विक्षोभ की वजह से 29 और 30 मई को कुछ राहत देने की संभावना है। इस अवधि के दौरान, उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में धूल भरी आंधी और गरज के साथ बौछार होने की संभावना है। पश्चिमी विक्षोभ एक चक्रवाती परिसंचरण है, जो भूमध्य सागर में उत्पन्न होता है। मध्य एशिया को पार करते हुए, यह हिमालय के संपर्क में आने पर पहाड़ियों और मैदानों में बारिश लाता है।