मोदी सरकार ला रही है नई ‘वर्चुअल ID’, 1 जून से बढ़ जाएगी आपके आधार कार्ड की सुरक्षा

मोदी सरकार ,'वर्चुअल ID ,आधार कार्ड
मोदी सरकार ला रही है नई 'वर्चुअल ID', 1 जून से बढ़ जाएगी आपके आधार कार्ड की सुरक्षा

नई दिल्ली। आधार डाटा लीक होने की वजह से ज़्यादातर लोगों में अब डर बैठ गया है कि कहीं उनके आधार नंबर का कोई गलत इस्तेमाल न कर ले। इन्हीं बातों को में ध्यान रखते हुए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने इसमें कुछ और बदलाव करने का निर्णय लिया है। बता दें कि यूआईडीएआई ने अब वर्चुअल आईडी की शुरुआत करने का फैसला लिया है। अब आपको कई सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए आधार नंबर नहीं देना होगा। यह वीआईडी आपकी ट्रांजेक्शन और ईकेवाईसी सेवाओं को निजी व सरकारी संस्थानों के लिए ऑथेंटिकेट करेगा और यहां आपको अपना आधार नंबर देने की जरूरत नहीं पड़ेगी।

What Is Aadhaar Virtual Id And How You Can Generate :

वर्चुअल ID(VID)

आधार वर्चुअल आईडी एक तरह का टेंपररी नंबर है। यह 16 अंकों का नंबर होता है, अगर इसे आधार का क्लोन कहा जाए तो यह गलत नहीं होगा। इसमें कुछ ही डिटेल होंगी और यह आधार नंबर साझा करने की तुलना में बेहद सुरक्षित विकल्प है।। UIDAI यूजर्स को हर आधार का एक वर्चुअल आईडी तैयार करने का मौका देगी। अगर किसी को कहीं अपने आधार की डिटेल देनी है तो वो 12 अंकों के आधार नंबर की जगह 16 अंकों का वर्चुअल आईडी दे सकता है। वर्चुअल आईडी जनरेट करने की सुविधा 1 जून से अनिवार्य हो जाएगी।

वर्चुअल ID की नहीं है कोई एक्सपायरी अवधि

इसके अतिरिक्त वीआईडी के लिए कोई भी एक्सपायरी अवधि परिभाषित नहीं की गई है। पहली वीआईडी तब तक वैलिड रहेगी जबतक कि एक दिन या उससे ज्यादा के समय के बाद दूसरी आईडी जनरेट नहीं की जाती। बता दें कि यह सुविधा केवल यूआईडीएआई के पोर्टल पर ही उपलब्ध होगी। इसका इस्तेमाल केवल तभी किया जा सकता है जब आधार डेटाबेस में आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि आधार संबंधित सभी ओटीपी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही भेजे जाते हैं।

ऐसे जेनरेट करें वर्चुअल ID

UIDAI के होम पेज पर आधार सर्विसेज के अंदर VID जनरेटर पर जाएं। अपना आधार नंबर, सिक्योरिटी कोड एंटर करें। इसके बाद सेंड ओटीपी पर क्लिक करें। आपको UIDAI साथ रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी आ जाएगा। ओटीपी को एंटर करें। इसके बाद आपके पास VID यानि की वर्चुअल आईडी जनरेट करने का विकल्प आएगा। इसके अलावा अगर आपने पहले से आईडी जनरेट किया हुआ है तो उस आईडी का भी पता इसी तरह से लगाया जा सकता है। इसके बाद सब्मिट करें। सब्मिट करने पर आपको मोबाइल नंबर पर वर्चुअल आईडी मिल जाएगा।

इन जगहों पर अभी भी पड़ेगी आधार कार्ड की जरुरत

  • नया बैंक अकाउंट खुलवाने के लिए
  • सरकारी सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए
  • तत्काल पासपोर्ट अप्लाई करने के लिए
  • नई इंश्योरेंस पालिसी खरीदते समय

इसका मतलब यह है की आपको नया बैंक अकाउंट खुलवाना हो या नई पॉलिसी खरीदनी हो। इसके लिए आप आधार नंबर की जगह 16 डिजिट का वर्चुअल आईडी भी उपलब्ध करा सकते हैं जो आधार नंबर का ही काम करेगा।

नई दिल्ली। आधार डाटा लीक होने की वजह से ज़्यादातर लोगों में अब डर बैठ गया है कि कहीं उनके आधार नंबर का कोई गलत इस्तेमाल न कर ले। इन्हीं बातों को में ध्यान रखते हुए भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण (UIDAI) ने इसमें कुछ और बदलाव करने का निर्णय लिया है। बता दें कि यूआईडीएआई ने अब वर्चुअल आईडी की शुरुआत करने का फैसला लिया है। अब आपको कई सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए आधार नंबर नहीं देना होगा। यह वीआईडी आपकी ट्रांजेक्शन और ईकेवाईसी सेवाओं को निजी व सरकारी संस्थानों के लिए ऑथेंटिकेट करेगा और यहां आपको अपना आधार नंबर देने की जरूरत नहीं पड़ेगी।वर्चुअल ID(VID)आधार वर्चुअल आईडी एक तरह का टेंपररी नंबर है। यह 16 अंकों का नंबर होता है, अगर इसे आधार का क्लोन कहा जाए तो यह गलत नहीं होगा। इसमें कुछ ही डिटेल होंगी और यह आधार नंबर साझा करने की तुलना में बेहद सुरक्षित विकल्प है।। UIDAI यूजर्स को हर आधार का एक वर्चुअल आईडी तैयार करने का मौका देगी। अगर किसी को कहीं अपने आधार की डिटेल देनी है तो वो 12 अंकों के आधार नंबर की जगह 16 अंकों का वर्चुअल आईडी दे सकता है। वर्चुअल आईडी जनरेट करने की सुविधा 1 जून से अनिवार्य हो जाएगी।वर्चुअल ID की नहीं है कोई एक्सपायरी अवधिइसके अतिरिक्त वीआईडी के लिए कोई भी एक्सपायरी अवधि परिभाषित नहीं की गई है। पहली वीआईडी तब तक वैलिड रहेगी जबतक कि एक दिन या उससे ज्यादा के समय के बाद दूसरी आईडी जनरेट नहीं की जाती। बता दें कि यह सुविधा केवल यूआईडीएआई के पोर्टल पर ही उपलब्ध होगी। इसका इस्तेमाल केवल तभी किया जा सकता है जब आधार डेटाबेस में आपका मोबाइल नंबर रजिस्टर्ड होगा। ऐसा इसलिए क्योंकि आधार संबंधित सभी ओटीपी रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर पर ही भेजे जाते हैं।ऐसे जेनरेट करें वर्चुअल IDUIDAI के होम पेज पर आधार सर्विसेज के अंदर VID जनरेटर पर जाएं। अपना आधार नंबर, सिक्योरिटी कोड एंटर करें। इसके बाद सेंड ओटीपी पर क्लिक करें। आपको UIDAI साथ रजिस्टर मोबाइल नंबर पर ओटीपी आ जाएगा। ओटीपी को एंटर करें। इसके बाद आपके पास VID यानि की वर्चुअल आईडी जनरेट करने का विकल्प आएगा। इसके अलावा अगर आपने पहले से आईडी जनरेट किया हुआ है तो उस आईडी का भी पता इसी तरह से लगाया जा सकता है। इसके बाद सब्मिट करें। सब्मिट करने पर आपको मोबाइल नंबर पर वर्चुअल आईडी मिल जाएगा।इन जगहों पर अभी भी पड़ेगी आधार कार्ड की जरुरत
  • नया बैंक अकाउंट खुलवाने के लिए
  • सरकारी सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए
  • तत्काल पासपोर्ट अप्लाई करने के लिए
  • नई इंश्योरेंस पालिसी खरीदते समय
इसका मतलब यह है की आपको नया बैंक अकाउंट खुलवाना हो या नई पॉलिसी खरीदनी हो। इसके लिए आप आधार नंबर की जगह 16 डिजिट का वर्चुअल आईडी भी उपलब्ध करा सकते हैं जो आधार नंबर का ही काम करेगा।