1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. जम्मू-कश्मीर में क्या होने वाला है? पीएम मोदी ने 24 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक

जम्मू-कश्मीर में क्या होने वाला है? पीएम मोदी ने 24 जून को बुलाई सर्वदलीय बैठक

केंद्र की मोदी सरकार 24 जून को जम्मू-कश्मीर की सभी क्षे​त्रीय पार्टियों से बातचीत करेगी। इसके पीछे केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव कराने सहित राजनीतिक प्रक्रियाओं को बढ़ावा देने की पहल के तहत उठा रही है। बताया जा रहा है कि केंद्रीय नेतृत्व इस बातचीत के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के मुखिया सज्जाद लोन को भी बुला सकता है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार 24 जून को जम्मू-कश्मीर की सभी क्षे​त्रीय पार्टियों से बातचीत करेगी। इसके पीछे केंद्र शासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव कराने सहित राजनीतिक प्रक्रियाओं को बढ़ावा देने की पहल के तहत उठा रही है। बताया जा रहा है कि केंद्रीय नेतृत्व इस बातचीत के लिए नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के मुखिया सज्जाद लोन को भी बुला सकता है।

पढ़ें :- ​ट्रिब्यूनल सुधार एक्ट और नियुक्तियों को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र को लगाई फटकार, कहीं ये बातें...
Jai Ho India App Panchang

इसे जम्मू और कश्मीर के केंद्रशासित प्रदेश में चुनावी लोकतंत्र की पूर्ण बहाली की दिशा में पहला बड़ा कदम माना जा रहा है। आर्टिकल 370 और 35A के निरस्त होने की दूसरी वर्षगांठ से कुछ हफ्ते पहले होने वाली इस बैठक को नई दिल्ली द्वारा केंद्रशासित प्रदेश में क्षेत्रीय राजनीतिक दलों के लिए बढ़ाया गया एक कदम माना जा रहा है।

दरअसल जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग और राजनीतिक पार्टियां लंबे समय से राज्‍य को लेकर केंद्र सरकार के रोडमैप का इंतजार कर रहे थे। बता दें कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शुक्रवार को जम्मू-कश्मीर में विकास कार्यों और सुरक्षा संबंधी स्थिति की समीक्षा के लिए जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा और शीर्ष नौकरशाहों के साथ बैठक की थी।

इस बैठक में एनएसए अजीत डोभाल और केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला भी मौजूद थे। गृहमंत्री के साथ हुई इस उच्च स्तरीय बैठक को एक ऐसी राजनीतिक प्रक्रिया के रूप में देखा जा रहा है, जिस पर पिछले कई महीनों से काम चल रहा है और बहुत जल्‍द ये सामने आ सकता है। दो सप्ताह से भी कम समय में यह दूसरी बार है जब जम्‍मू-कश्‍मीर के उपराज्‍यपाल मनोज सिन्हा नई दिल्ली पहुंचे हैं।

 

पढ़ें :- Jammu and Kashmir से 60 युवाओं के गायब होने पर सुरक्षा एजेंसियां अलर्ट पर, आतंकी संगठन से जुड़ने की आशंका

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...