व्हाट्सऐप के जरिये लोगों के मोबाइल फोन में इंस्टॉल हो रहा है जासूसी सॉफ्टवेयर, ऐसे करें बचाव

whatsapp
व्हाट्सऐप के जरिये लोगों के मोबाइल फोन में इंस्टॉल हो रहा है जासूसी सॉफ्टवेयर , ऐसे करें बचाव

नई दिल्ली। दुनियाभर में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सोशल ऐप फेसबुक ने ये स्वीकार किया है कि उसकी इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप में एक सुरक्षा को लेकर चूक हो गई है। इस चूक के चलते व्हाट्सऐप के जरिये लोगों के मोबाइल फोन में एक जासूसी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो गया है। जानकारी के मुताबिक ये सॉफ्टवेयर एक इसराइली कंपनी ने विकसित किया है। जिससे कुछ लोगों को इसका निशाना बनाया जा रहा है।

Whatsapp Spy Software Is Being Installed In Peoples Mobile Phones Such As Rescue :

इस जासूसी सॉफ्टवेयर को व्हाट्सऐप कॉल के जरिए लोगों के फोन में इंस्टॉल किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक यदि कोई यूजर कॉल का जबाव नहीं देता है तब भी उसके फोन में ये सॉफ्टवेयर इंस्टॉल किया जा सकता है। जानकारी के मुताबिक इस जासूसी सॉफ्टवेयर से मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अधिवक्ताओं को निशाना बनाया गया है।

जानकारी के मुताबिक फेसबुक इंजीनियर इस सुरक्षा चूक को ठीक करने के लिए रविवार तक जुटे हुए थे। फेसबुक ने अपने ग्राहकों से कहा है कि ‘वो नए वर्जन को अपडेट कर लें जिससे कि वो इस हमले से बच सकें। साइबर सेल अभी तक इस बात का पता नहीं कर पाया है कि कितने लोग इस हमले का शिकार हुए हैं। दुनियाभर में डेढ़ सौ करोड़ से अधिक लोग व्हाट्सऐप इस्तेमाल करते हैं। जिसमें से बेहद चुनिंदा लोगों को इस हमले का निशाना बनाया गया है।

अगर आपको भी आपके फोन में जासूसी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल होने का डर है तो आप अपने व्हाट्सऐप को फटा-फट अपडेट कर लें। इसके बाद अपने फोन के डाउनलोड फोल्डर में जाएं और देखें कि ऐसी कोई फाइल डाउनलोड हुई है क्या जिसे आपने डाउनलोड किया ही नहीं है। यदि ऐसी कोई फाइल मिलती है तो उसे तुरंत डिलीट करें और संभव हो तो फोन को एक बार फैक्ट्री रीसेट कर दें।

नई दिल्ली। दुनियाभर में सबसे ज़्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सोशल ऐप फेसबुक ने ये स्वीकार किया है कि उसकी इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप व्हाट्सऐप में एक सुरक्षा को लेकर चूक हो गई है। इस चूक के चलते व्हाट्सऐप के जरिये लोगों के मोबाइल फोन में एक जासूसी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल हो गया है। जानकारी के मुताबिक ये सॉफ्टवेयर एक इसराइली कंपनी ने विकसित किया है। जिससे कुछ लोगों को इसका निशाना बनाया जा रहा है। इस जासूसी सॉफ्टवेयर को व्हाट्सऐप कॉल के जरिए लोगों के फोन में इंस्टॉल किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक यदि कोई यूजर कॉल का जबाव नहीं देता है तब भी उसके फोन में ये सॉफ्टवेयर इंस्टॉल किया जा सकता है। जानकारी के मुताबिक इस जासूसी सॉफ्टवेयर से मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अधिवक्ताओं को निशाना बनाया गया है। जानकारी के मुताबिक फेसबुक इंजीनियर इस सुरक्षा चूक को ठीक करने के लिए रविवार तक जुटे हुए थे। फेसबुक ने अपने ग्राहकों से कहा है कि 'वो नए वर्जन को अपडेट कर लें जिससे कि वो इस हमले से बच सकें। साइबर सेल अभी तक इस बात का पता नहीं कर पाया है कि कितने लोग इस हमले का शिकार हुए हैं। दुनियाभर में डेढ़ सौ करोड़ से अधिक लोग व्हाट्सऐप इस्तेमाल करते हैं। जिसमें से बेहद चुनिंदा लोगों को इस हमले का निशाना बनाया गया है। अगर आपको भी आपके फोन में जासूसी सॉफ्टवेयर इंस्टॉल होने का डर है तो आप अपने व्हाट्सऐप को फटा-फट अपडेट कर लें। इसके बाद अपने फोन के डाउनलोड फोल्डर में जाएं और देखें कि ऐसी कोई फाइल डाउनलोड हुई है क्या जिसे आपने डाउनलोड किया ही नहीं है। यदि ऐसी कोई फाइल मिलती है तो उसे तुरंत डिलीट करें और संभव हो तो फोन को एक बार फैक्ट्री रीसेट कर दें।