1. हिन्दी समाचार
  2. बॉलीवुड
  3. जब ड्रीम गर्ल ने कोरोना को खत्म करने के लिए दी हवन करने की सलाह, ट्रोलर्स ने सुनाई खरी खोटी

जब ड्रीम गर्ल ने कोरोना को खत्म करने के लिए दी हवन करने की सलाह, ट्रोलर्स ने सुनाई खरी खोटी

जब से कोरोना आया तब से मैं इसे रोज करती हूं, रोज़ हवन करने से वातावरण भी शुद्ध होता है। यह वीडियो जैसे ही सामने आया, वैसे ही ट्विटर यूजर्स ने हेमा मालिनी को भला-बुरा कहना शुरू कर दिया।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

When Dream Girl Advised To Do 2 Havans To End Corona The Trollers Told The Truth

नई दिल्ली: योग गुरू बाबा रामदेव ने एक बयान दिया था और उनके उस बयान के बाद आयुर्वेद और ऐलोपैथी के बीच बड़ा सा विवाद खड़ा हो गया था। वह विवाद अब तक थमा नहीं है और कोरोना से बचाव को लेकर उत्तर प्रदेश के मथुरा से बीजेपी सांसद हेमा मालिनी चर्चा में आ गई हैं। हेमा के चर्चाओं में आने की वजह उनका दावा है। उन्होंने दावा किया है कि घर में रोज हवन करने से लोग कोरोना वायरस और अन्य बीमारियों से बच सकते हैं।

पढ़ें :- जब नीना गुप्ता को प्रेगनेंसी में मिली थी 'गे' शख्स से शादी करने की सलाह, और फिर...

अब हेमा के इस दावे से सोशल मीडिया पर हलचल मच गई है। कल पर्यावरण दिवस था। ऐसे में इस मौके पर हेमा का एक वीडियो सामने आया जिसमें वह सोफे पर बैठकर हवन करती दिखाई दे रही हैं। इस वीडियो को लेकर सांसद हेमा मालिनी का कहना है, ”जब से कोरोना आया तब से मैं इसे रोज करती हूं, रोज़ हवन करने से वातावरण भी शुद्ध होता है।” यह वीडियो जैसे ही सामने आया, वैसे ही ट्विटर यूजर्स ने हेमा मालिनी को भला-बुरा कहना शुरू कर दिया।

आपको हम यह भी जानकारी दे दें कि इस वीडियों को न्यूज 24 ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है। इस वीडियो के तहत हेमा मालिनी का कहना है कि, ‘प्राचीन काल से ही भारत में हवन करने की प्रथा को लाभदायक एवं नकारात्मक शक्तियों को शुद्ध करने का सही उपाय माना गया हैं। आज पूरा विश्व महामारी और पर्यावरण के संकट को झेल रहा हैं, ऐसे में केवल पर्यावरण दिवस पर ही नहीं, बल्कि जब तक इस महामारी का अंत न हो जाए तब तक हर दिन हवन करें।’

अब हेमा के इस वीडियो पर लोगों ने भला बुरा कहना शुरू कर दिया है। इस वीडियो को देखकर किसी ने लिखा है, ”हवन करना अच्छी बात है, लेकिन इतनी खतरनाक बीमारी मे हमें अन्धविश्वास में नहीं पड़ना चाहिये। क्योंकि अगर लोग हवन करने से बच सकते तो जो हजारों साधु-सन्त कोरोना में अपनी जानें गवाई हैं, वो नही मरते। अगर हवन से बचा जा सकता तो कोरोना होने पर राष्ट्रपति एम्स की शरण में नही जाते।” इसी के साथ एक अन्य यूजर ने लिखा, ”इन्हें मथुरा की जनता ने सेवा नहीं, हवन करने के लिए सांसद बनाया था। महीने का 5 लाख खर्चा मिलता है इनको हवन करने का। कैसे-कैसे मथुरा वालों ने चुन रखे हैं। बताइए, है जनता ही बेवकूफ या नहीं?” इस तरह कई लोगों ने कमेंट्स किये हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X