खाना बनाते समय रोटी जल गई तो पति ने दिया तीन तलाक

3 TALAQ
खाना बनाते समय रोटी जल गई तो पति ने दिया तीन तलाक

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा में खाना पकाते समय रोटी जल जाने की वजह से एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को तलाक दे दिया। इतना ही नहीं आरोपी ने दो मासूम बच्चों के साथ उसे घर से भी निकाल दिया। पीड़िता ने उच्चाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है।

When The Food Was Burnt While Cooking The Husband Gave Three Divorces :

मामला बांदा जिले के सेढू तलैया का है। यहां की रहने वाली 30 वर्षीय महिला इशरत कायनात अपनी फरियाद लेकर अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) के आफिस पहुंची थी। इशरत कायनात के साथ तीन साल की बेटी और छह साल का बेटा भी था। इशरत ने एएसपी से पति के तलाक देने का जो कारण बताया, वह हैरान कर देने वाला था।

पीड़िता ने एएसपी को बताया कि विगत 14 सितंबर को रसोई में खाना पका रही थी। गलती से एक रोटी जल गई। इसी से नाराज होकर दो ननदों और ससुर ने पहले मारा-पीटा, फिर फोन कर शौहर शब्बीर को बुला लिया। उसने पिटाई करके  तीन बार तलाक बोल कर दोनों मासूम बच्चों के साथ घर से निकाल दिया है। अब मैं किराए के मकान में रह रही हूं।

अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने मंगलवार को बताया कि यह मामला उनके सामने सोमवार को आया था, जिसमें पीड़िता के पति और अन्य के खिलाफ तत्काल मुकदमा दर्ज करने का निदेर्श नगर कोतवाली पुलिस को दिया गया है। संसद में तीन तलाक कानून पारित होने के बाद इससे संबंधित बांदा जिले का यह पहला मुकदमा है। पीड़ित महिला को न्याय दिलाने की हर संभव कोशिश की जाएगी।

एएसपी ने बताया कि पीड़िता की शादी 2008 में हुई थी, उसने अपनी शिकायत में ससुरालीजनों पर दहेज की अतिरिक्त मांग का भी आरोप लगाया है। मामले में जांचोपरांत आरोपियों की गिरफ्तारी भी की जाएगी।

बांदा। उत्तर प्रदेश के बांदा में खाना पकाते समय रोटी जल जाने की वजह से एक व्यक्ति ने अपनी पत्नी को तलाक दे दिया। इतना ही नहीं आरोपी ने दो मासूम बच्चों के साथ उसे घर से भी निकाल दिया। पीड़िता ने उच्चाधिकारियों से न्याय की गुहार लगाई है। मामला बांदा जिले के सेढू तलैया का है। यहां की रहने वाली 30 वर्षीय महिला इशरत कायनात अपनी फरियाद लेकर अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) के आफिस पहुंची थी। इशरत कायनात के साथ तीन साल की बेटी और छह साल का बेटा भी था। इशरत ने एएसपी से पति के तलाक देने का जो कारण बताया, वह हैरान कर देने वाला था। पीड़िता ने एएसपी को बताया कि विगत 14 सितंबर को रसोई में खाना पका रही थी। गलती से एक रोटी जल गई। इसी से नाराज होकर दो ननदों और ससुर ने पहले मारा-पीटा, फिर फोन कर शौहर शब्बीर को बुला लिया। उसने पिटाई करके  तीन बार तलाक बोल कर दोनों मासूम बच्चों के साथ घर से निकाल दिया है। अब मैं किराए के मकान में रह रही हूं। अपर पुलिस अधीक्षक लाल भरत कुमार पाल ने मंगलवार को बताया कि यह मामला उनके सामने सोमवार को आया था, जिसमें पीड़िता के पति और अन्य के खिलाफ तत्काल मुकदमा दर्ज करने का निदेर्श नगर कोतवाली पुलिस को दिया गया है। संसद में तीन तलाक कानून पारित होने के बाद इससे संबंधित बांदा जिले का यह पहला मुकदमा है। पीड़ित महिला को न्याय दिलाने की हर संभव कोशिश की जाएगी। एएसपी ने बताया कि पीड़िता की शादी 2008 में हुई थी, उसने अपनी शिकायत में ससुरालीजनों पर दहेज की अतिरिक्त मांग का भी आरोप लगाया है। मामले में जांचोपरांत आरोपियों की गिरफ्तारी भी की जाएगी।