आप के धरने के बाद HC ने पूछा, एलजी हाउस में किसने दी धरने की अनुमति

arvind kejriwak hc
आप के धरने के बाद HC ने पूछा, एलजी हाउस में किसने दी धरने की अनुमति

नई दिल्ली। उपराज्यपाल के घर में अपने मंत्रियों के साथ भूख हड़ताल पर बैठे अरविन्द केजरीवाल को हाईकोर्ट ने फटकार लगाई है। कोर्ट ने पूछा हैं कि मुख्यमंत्री को उपराज्यपाल के घर में धरना देने की अनुमति किसने दी ? क्या एलजी ऑफिस में बैठने के लिए एलजी की इजाजत ले ली गई है। ऊधर भारतीय जनता पार्टी के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर अरविन्द केजरीवाल को धरना समाप्त करने का आदेश देने की मांग की है।

बता दें कि एलजी हाउस में चल रहे धरने के ख़िलाफ़ एक जनहित याचिका दाखिल की गई थी, जिस पर आज हाइकोर्ट ने सुनवाई की थी। जनहित याचिका में कहा गया है कि मुख्यमंत्री और मंत्री संवैधानिक पद पर होने के चलते हड़ताल नहीं कर सकते हैं। इसलिए हड़ताल को असंवैधानिक और ग़ैरक़ानूनी क़रार दिया जाए। याचिका में मांग की गई कि मुख्यमंत्री के हड़ताल पर होने के चलते दिल्ली में सारा कामकाज ठप हो गया है, लिहाजा उन्हे धरना समाप्त करने का आदेश दिया जाए। वहीं हाइकोर्ट में एक और याचिका दायर कर मांग की गई है कि वो दिल्ली सरकार के आईएएस अफ़सरों को भी हड़ताल ख़त्म करने का आदेश दे।

{ यह भी पढ़ें:- बेंगलुरु यात्रा में 80 हजार की शराब पी गए केजरीवाल, BJP ने लगाए पोस्टर }

ऊधर आप के धरने पर तंज कसते हुए केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, ‘करने में जीरो, धरने में हीरो, करना कुछ नहीं धरना सब कुछ’, यह उनकी मानसिकता है। उन्होने कहा कि अरविन्द केजरीवाल दिल्ली की जनता का विश्वास तोड़ रहे है। बता दें कि दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल पिछले सोमवार से अपनी मांगो को लेकर एलजी अनिल बैजल के कार्यालय पर धरना दे रहे हैं।

{ यह भी पढ़ें:- आजम खां और राज्य सरकार को हाईकोर्ट ने भेजा नोटिस, इन सवालों के मांगे जवाब }

नई दिल्ली। उपराज्यपाल के घर में अपने मंत्रियों के साथ भूख हड़ताल पर बैठे अरविन्द केजरीवाल को हाईकोर्ट ने फटकार लगाई है। कोर्ट ने पूछा हैं कि मुख्यमंत्री को उपराज्यपाल के घर में धरना देने की अनुमति किसने दी ? क्या एलजी ऑफिस में बैठने के लिए एलजी की इजाजत ले ली गई है। ऊधर भारतीय जनता पार्टी के नेता विजेंद्र गुप्ता ने भी हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर अरविन्द केजरीवाल को धरना समाप्त करने का आदेश देने की मांग…
Loading...