1. हिन्दी समाचार
  2. दिल्ली
  3. WHO प्रमुख बोले- दुनिया इस शर्त का करे पालन तो 2022 में खत्म हो जाएगा Covid-19

WHO प्रमुख बोले- दुनिया इस शर्त का करे पालन तो 2022 में खत्म हो जाएगा Covid-19

कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (New Variants Omicron) आने के बाद से दुनिया भर में सरकारें अलर्ट पर हैं। इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम घेब्रेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने बड़ा संदेश दिया है। ताकि भविष्य की बीमारियों व महामारियों से बचाव किया जा सके। इसके लिए एक शर्त रखते हुए उन्होंने कहा कि इस वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने दुनियाभर के देशों के लिए एक 'बायोहब सिस्टम' (BioHub System) तैयार किया है, ताकि नवीन जैविक सामग्री को साझा किया जा सके।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन (New Variants Omicron) आने के बाद से दुनिया भर में सरकारें अलर्ट पर हैं। इसी बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टेड्रोस अधनोम घेब्रेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने बड़ा संदेश दिया है। ताकि भविष्य की बीमारियों व महामारियों से बचाव किया जा सके। इसके लिए एक शर्त रखते हुए उन्होंने कहा कि इस वैश्विक स्वास्थ्य निकाय ने दुनियाभर के देशों के लिए एक ‘बायोहब सिस्टम’ (BioHub System) तैयार किया है, ताकि नवीन जैविक सामग्री को साझा किया जा सके।

पढ़ें :- Omicron Variant Havoc: WHO ने बताया आखिर क्यों तेजी से फ़ैल रहा ओमिक्रॉन ?

डब्ल्यूएचओ (WHO)  प्रमुख ने कहा कि कोरोना महामारी (Covid-19) 2022 के अंत तक खत्म हो जाएगी, यदि हम मिलकर असमानता खत्म कर दें। टेड्रोस अधनोम घेब्रेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने यह संदेश अपने नए साल के संबोधन में दिया है। उन्होंने कहा कि 2022 की शुरुआत के साथ ही दुनिया भर में कोरोना महामारी (Corona Pandemic)को तीसरा साल शुरू हो गया है।

टेड्रोस अधनोम घेब्रेसियस (Tedros Adhanom Ghebreyesus) ने कहा कि कोई भी देश महामारी के खतरे से अछूता नहीं है। हमारे पास कोविड-19 (Covid-19) को रोकने और उसका इलाज करने के लिए कई नए तरीके हैं, लेकिन जब तक असमानता जारी रहेगी, तब तक इस वायरस के जोखिम उतने ही अधिक होंगे। इसे हम रोक नहीं सकते और न ही  भविष्यवाणी कर सकते हैं। यदि हम असमानता को समाप्त करेंगे तो म महामारी को समाप्त करेंगें।

उन्होंने कहा कि कोविड-19 (Covid-19)  एकमात्र स्वास्थ्य खतरा नहीं है, जिसका दुनिया के लोग अगले साल सामना करेंगे। लाखों लोग नियमित टीकाकरण, परिवार नियोजन, संक्रामक और गैर-संक्रामक रोगों के उपचार से भी वंचित हैं। उन्होंने यह भी कहा कि विश्व को भविष्य की महामारियों से बचाने के लिए डब्ल्यूएचओ (WHO) ने ‘बायोहब सिस्टम’ (BioHub System) बनाया है, ताकि दुनियाभर के देश नई बॉयोलॉजिकल मटेरियल्स को साझा कर सकें।

इससे कुछ दिन पहले भी एक मीडिया ब्रीफिंग में डब्ल्यूएचओ (WHO) प्रमुख ने कहा था कि 2022 को महामारी के खात्मे का वर्ष बनाया जाना चाहिए। हाल ही में कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन सामने आया है, डब्ल्यूएचओ (WHO)   ने इसे ‘वैरिएंट आफ कंसर्न’ घोषित किया है। यह दुनियाभर में तेजी से फैल रहा है। भारत में भी इसके मरीज बढ़कर 1700 तक पहुंच गए हैं।

पढ़ें :- Omicron variant : SII ने Covishield Vaccine के लिए बूस्टर खुराक के रूप में मांगी मंजूरी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO)   ने कोरोना के खिलाफ नौंवी वैक्सीन के बतौर सीरम इंस्टीट्यूट आफ इंडिया (Serum Institute of India) की नई नोवावैक्स (New Novavax) को आपात इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है। संगठन के प्रमुख ने उम्मीद जताई कि यह वैक्सीन वैश्विक टीकाकरण (Global Vaccination) का लक्ष्य पाने में अहम भूमिका निभाएगी।

 

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...