जानिए कैसे रेप के दोषी ‘राम रहीम’ 23 साल में बने ‘बाबा’!

गुरुमीत राम रहीम को कल मिलेगी सजा, समर्थकों के खिलाफ सेना ने संभाला मोर्चा

साध्वी यौन शोषण मामले में डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर शुक्रवार को हरियाणा के पंचकूला में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट का फैसला आएगा. पूरे हरियाणा और पंजाब में तनाव है और राम रहीम के सैकड़ों समर्थक पंचकूला में डटे हुए हैं. इस देखते हुए 72 घंटों के लिए मोबाइल और इंटरनेट सर्विस को बंद कर दिया गया है. फैसले को देखते हुए पंजाब, हरियाणा औऱ चंडीगढ़ में कानून एवं व्यवस्था को बनाए रखने के लिए जो कदम उठाए गए उससे कर्फ्यू जैसी स्थिति उत्पन्न हो गई है.आइए जानते हैं आखिर कौन हैं बाबा राम रहीम और कैसे बनें संत.

राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के भूस्वामी जाट सिख दंपती मगहर सिंह और नसीब कौर की एकमात्र संतान गुरमीत राम रहीम को डेरे का नेतृत्व विरासत में तब मिला, जब उनके प्रमुख शाह सतनाम सिंह ने 1990 में गद्दी उन्हें सौंप दी.

{ यह भी पढ़ें:- पुलिस के सामने बिलखती रही हनीप्रीत, सिर हिलाकर ना में ही देती रही जवाब }

गुरमीत राम रहीम सिंह अपने माता-पिता की इकलौती संतान हैं. उनका जन्म 15 अगस्त, 1967 को राजस्थान के श्रीगंगानगर जिले के गुरूसर मोदिया में जाट सिख परिवार में हुआ था.

इन्हें महज सात साल की उम्र में ही 31 मार्च, 1974 को तत्कालीन डेरा प्रमुख शाह सतनाम सिंह जी ने ये नाम दिया था. 23 सितंबर, 1990 को शाह सतनाम सिंह ने देशभर से अनुयायियों का सत्संग बुलाया और गुरमीत राम रहीम सिंह को अपना उत्तराधिकारी घोषित कर दिया.

{ यह भी पढ़ें:- शुगर का इलाज कराने 'कंबल बाबा' के पास पहुंचे छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री, फोटो वायरल }

डेरा प्रमुख की दो बेटियां और एक बेटा है. बड़ी बेटी का चरणप्रीत और छोटी का नाम अमरप्रीत है, जबकि उन्होंने इनके अलावा एक बेटी को गोद लिया हुआ है. गुरमीत राम रहीम के बेटे की शादी भठिंडा के पूर्व एमएलए हरमिंदर सिंह जस्सी की बेटी से शादी हुई है. इनके सभी बच्चों की पढ़ाई डेरे की ओर से चल रहे स्कूल में हुई है. इनके दो दामाद रूहेमीत और डॉ शम्मेमीत हैं.

हरियाणा के सिरसा जिला में डेरा सच्चा सौदा का ये आश्रम 67 सालों से चल रहा है. डेरा सच्चा सौदा का साम्राज्य विदेशो तक फैल हुआ है. देश में डेरा के करीब कई आश्रम हैं और उसकी शाखाएं अमेरिका, कनाडा और इंग्लैंड से लेकर ऑस्ट्रेलिया और यूएई तक फैली हुई हैं.

दुनिया भर में डेरे के करीब पांच करोड़ मानने वाले हैं जिनमें से 25 लाख अनुयायी अकेले हरियाणा में ही मौजूद हैं. इस डेरे के बारे में एक और खास बात यह है कि सिरसा के जिले में मौजूद सभी दुकानों के नाम के आगे सच शब्द लिखा दिखाई पड़ता है.

{ यह भी पढ़ें:- बलात्कारी बाबा की रहस्यमयी सुरंगों का राज, कमरे से साध्वियों के हॉस्टल का खुफिया कनेक्शन! }

बाबा राम रहीम के पास हरियाणा के सिरसा में करीब 700 एकड़ की एग्रीकल्चर लैंड है. उनका राजस्थान के गंगानगर में 175 बेड का हस्तपाल भी है, इसके अलावा बाबा राम रहीम एक गैस स्टेशन और एक मार्केट कॉम्प्लेक्स भी चलाते हैं,बाबा राम रहीम के डेरा सच्चा सौदा की ब्रांच पूरे देश में फैली हुई हैं. डेरा सच्चा सौदा की जमीन और जायदाद का रख-रखाव एक ट्रस्ट के जरिए किया जाता है जिसके मुखिया बाबा राम रहीम है.

रहीम इस समय साल 2002 के एक मामले में फंसे हैं, जिसमें उनके पंथ से ही ताल्लुक रखने वाली दो महिलाओं ने उनपर रेप और यौन शोषण का आरोप लगाया था. दोनों महिलाएं डेरा सच्चा सौदा के हेडक्वार्टर में ही रहती थीं. हेडक्वार्टर चंडीगढ़ से 260 किमी दूर हरियाणा के सिरसा में है.

यह केस साल 2002 में उस समय सामने आया था जब राम रहीम के पंथ से ताल्लुक रखने वाली दोनों महिलाओं ने तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को गुमनाम लेटर लिखा. इसमें उन्होंने डेरा प्रमुख के ऊपर यौन शोषण का आरोप लगाया. इस मामले को संज्ञान में लेते हुए पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने सीबीआई जांच के आदेश दिए.

{ यह भी पढ़ें:- तलाशी के दौरान डेरे ने उगले बलात्कारी बाबा के कई राज }