हनुमान जयंती 2018: जानिए क्यों चढ़ाया जाता है बजरंबली को सिंदूर

hanuman jayanti,हनुमान जयंती 2018
हनुमान जयंती 2018: जानिए क्यों चढ़ाया जाता है बजरंबली को सिंदूर
लखनऊ। इस वर्ष आज यानि 31 मार्च को हनुमान जयंती मनाई जा रही है। खास बात यह है कि शनिवार और मंगलवार दोनों ही दिन हनुमान जी की पूजा के काफी शुभ माना जाता है और इस बार हनुमान जयंती भी शनिवार को ही पद रही है। इस खास दिन बंजरंग बली की पूजा करने से सभी प्रकार के भय और कष्टों से मुक्ति मिलती है। हनुमानजी की पूजा में सिंदूर मुख्य रूप से अर्पित किया जाता है। मान्यता है…

लखनऊ। इस वर्ष आज यानि 31 मार्च को हनुमान जयंती मनाई जा रही है। खास बात यह है कि शनिवार और मंगलवार दोनों ही दिन हनुमान जी की पूजा के काफी शुभ माना जाता है और इस बार हनुमान जयंती भी शनिवार को ही पद रही है। इस खास दिन बंजरंग बली की पूजा करने से सभी प्रकार के भय और कष्टों से मुक्ति मिलती है। हनुमानजी की पूजा में सिंदूर मुख्य रूप से अर्पित किया जाता है। मान्यता है कि सिंदूर का चोला चढ़ाने से भक्त को शुभ फल मिलते हैं। जानिए हनुमानजी को सिंदूर का चोला क्यों चढ़ाया जाता।

इसलिए हनुमानजी को चढ़ाया जाता है सिंदूर का चोला मान्यता के अनुसार जब भगवान श्रीराम रावण को मारकर सीता के साथ को लेकर अयोध्या आए तो हनुमानजी भी उनके साथ आ गए। हनुमानजी दिन-रात यही प्रयास करते थे कि कैसे श्रीराम को खुश रखा जाए। एक बार उन्होंनें माता सीता को मांग में सिंदूर भरते हुए देखा। तो माता सीता से इसका कारण पूछ लिया। माता सीता ने उनसे कहा कि वह प्रभु राम को प्रसन्न रखने के लिए सिंदूर लगाती हैं। तब हनुमानजी ने अपने शरीर पर बहुत सा सिंदूर लगा लिया और और श्रीराम के सामने पहुंच गए। तब श्रीराम उनको इस तरह से देखकर आश्चर्य में पड़ गए। उन्होंने हनुमान से इसका कारण पूछा। हनुमान ने श्रीराम से कहा कि प्रभु मैंने आपकी प्रसन्नता के लिए ये किया है। सिंदूर लगाने के कारण ही आप माता सीता से बहुत प्रसन्न रहते हो। अब आप मुझसे भी उतने ही प्रसन्न रहना। तब श्रीराम को अपने भोले-भाले भक्त हनुमान की युक्ति पर बहुत हंसी आई। और सचमुच हनुमान के लिए श्रीराम के मन में जगह और गहरी हो गई। यही कारण है कि हनुमानजी को सिंदूर का चोला चढ़ाया जाता है, जिससे उनकी कृपा हम पर बनी रहे।

{ यह भी पढ़ें:- हनुमान जयंती 2018: जानिए कब है हनुमान जयंती, पूजन विधि और शुभ मंत्र }

सिंदूर चढ़ाते वक्त इन मंत्रों का करें उच्चारण

सिन्दूरं रक्तवर्णं च सिन्दूरतिलकप्रिये।
भक्तयां दत्तं मया देव सिन्दूरं प्रतिगृह्यताम।।Remove term: हनुमान जी को सिंदूर चढ़ाते वक्त पढ़ें ये मंत्र हनुमान जी को सिंदूर

{ यह भी पढ़ें:- ऐसे में भूलकर भी न करें हनुमान जी की पूजा, वरना नहीं पा सकेंगे कष्टों से मुक्ति }

हनुमान जयंती की पूजा में जरूर करें ये उपाय

  • हनुमान जी के मंदिर में चमेली के तेल का दीपक जलाएं और सुन्दरकाण्ड का पाठ करने के पश्चात मंदिर में प्रसाद बाटें।
  • इस दिन 5 देसी घी के रोट का भोग हनुमान जी को लगाएं। इससे दुश्मनों से मुक्ति मिलती है।
  • श्री बजरंगबली को प्रसन्न करने के लिए श्री राम नाम का संकीर्तन करें।

Loading...