आपको पता है कुत्ते टांग उठाकर खंबे और टायर पर ही क्यों करते हैं ‘सूसू’

जानवरों की अपनी कुछ खास आदतें हैं जो हमरी नज़र में उनकी एक अलग पहचान बनी हुईं हैं। जैसे कुत्तो के बारे में- ऐसा कहा जाता है कि दुनिया का सबसे वफ़ादार जीव कोई है तो वो है कुत्ता। कुत्ते को पालना आपकी खुशियों को बढ़ाता है ये बात वैज्ञानिकों ने कई रिसर्च में साबित की है खैर ये बात तो हुई कुत्तों के महत्व की लेकिन क्या आप जानते हैं – कुत्ते टांग उठाकर ही पेशाब क्यों करते हैं? आपने अक्सर देखा होगा कुत्तों को इस तरह से, लेकिन उसका कारण आज हम बताते है। दरअसल कुत्ते किसी दीवार, गाड़ी के टायर और खंभों पर टांग उठाकर पेशाब करते है, उसका एक सामाजिक और वैज्ञानिक कारण है।

कई लोग कुत्ते की इस आदत के लिए उसकी बुद्धि की दाद देते हैं। हर कुत्ता स्वयं जहां रहता है, उस इलाके को अपना इलाका मानकर उसमें सभी स्थानों पर अपनी पहचान छोडता जाता है। दूसरे प्राणियों की तरह कुत्तों की पेशाब में भी कुछ ऐसे रासायनिक घटक होते हैं जिसकी तीव्र बू हर कुत्ते में बदलती रहती है। फेरोमोंस नामक यह गंध प्रायः सभी कुत्ते आसानी से पहचान सकत हैं। यही गंध कुत्तों के लिए ‘मेसेंजर’ जैसा काम करती हैं।

{ यह भी पढ़ें:- मुंबई में कुत्तों का रंग हो रहा नीला, वजह जान रह जाएंगे हैरान }

कुत्ता अपनी इस शक्ति का लाभ स्वयं ही उठाता है। एक बार किसी कुत्ते ने अपने क्षेत्र की पहचान स्थापित कर दी तो फिर यह ‘सरहद’ पारकर अंदर प्रवेश करने की हिम्मत दूसरे कुत्ते नहीं करते। अपने मालिक के साथ नाता बना रहे, अलग न हो जाए, घर न भूल जाए, इस कारण भी कुत्ता जिस स्थान पर रहता है, उस स्थान पर यहां-वहां पेशाब करके अपने चिन्ह छोडता जाता है।

मालिक के घर की साइकल, स्कूटर या कार जैसी चलती फिरती चीजों पर भी कुत्ता इस कारण ही पेशाब करता रहता है। मालिक अपने कुत्ते को लेकर घूमने निकलता है तब भी राह चलते थोडे-थोडे अंतर से पेशाब कर रास्ते में अपने ‘पदचिन्ह’ छोडता जाता है। स्वयं जिस रास्ते से गया था, उसके चिन्ह होने के कारण अलग हो जाने पर भी कुत्ते को रास्ता ढूंढकर घर पहुंच जाने में दिक्कत नहीं पडती है

{ यह भी पढ़ें:- पंचायत का फरमान: बलात्कारी को पेशाब पीने की सजा, परेशान आरोपी ने की आत्महत्या }

Loading...