1. हिन्दी समाचार
  2. खबरें
  3. हरियाली तीज मे क्यों होता है सुहागनों के श्रृंगार का खास महत्व, साथ ही जाने इसके पीछे की कथा…

हरियाली तीज मे क्यों होता है सुहागनों के श्रृंगार का खास महत्व, साथ ही जाने इसके पीछे की कथा…

By आराधना शर्मा 
Updated Date

श्रावण मास हिन्दू धर्म के अनुसार बहुत ही पावन महीना माना जाता है। ये महीना सुहागन स्त्री के लिए सौभाग्य ले कर आता है ऐसा इस लिए भी कहा जाता है क्योंकि हरियाली तीज सौभाग्‍य का वरदान माना जाता है।

आपको बता दें इस बार हरियाली तीज 23 जुलाई को मनाई जाएगी। हर महिला इस व्रत का पूरे साल इंतजार करती है, हो भी क्‍यों ना, इस व्रत में पति की लंबी आयु की कामना की जाती है। इस दिन सुहागिनें पूरा साज-श्रृंगार करती हैं, मेहंदी भी लगाई जाती है।

क्‍यों मनाई जाती है हरियाली तीज

ऐसी मान्‍यता है कि कठोर तपस्‍या के बाद इसी दिन मां पार्वती का विवाह भगवान शंकर से हुआ था. मां पार्वती की तपस्‍या से प्रसन्‍न होकर भगवान शंकर ने श्रावण मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया को मां पार्वती से विवाह किया.

हरियाली तीज के दिन श्रृंगार का खास महत्‍व है. तीज के दिन सुहागनों को 16 श्रृंगार करने का विधान है. जो ये ना कर सकें वे तीन महत्‍वपूर्ण श्रृंगार- मेहंदी, चूड़ी और साड़ी अवश्‍य पहनकर पूजन करें.

 

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...