IIT में M.Tech की फीस 20000 से बढ़कर पहुंचेगी 2 लाख रुपये तक

IIT में M.Tech की फीस 20000 से बढ़कर पहुंचेगी 2 लाख रुपये तक, जाने वजह
IIT में M.Tech की फीस 20000 से बढ़कर पहुंचेगी 2 लाख रुपये तक, जाने वजह

नई दिल्ली। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) ने एमटेक ट्यूशन फीस को दस गुना बढ़ाने का फैसला लिया है। 2020 के शैक्षणिक सत्र से शुरू होने वाले कोर्स में फीस को बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दिया जाएगा। साथ ही अब मंथली फेलोशिप अवॉर्ड पर भी रोक लगा दी है।

Why Iits Increase M Tech Fees Up To 10 Times To 2 Lakh Per Year :

वहीं कुछ शिक्षकों का कहना यह भी है कि अब आईआईटी के पढ़ने में कमजोर छात्रों को कोर्स से बाहर करने की भी तैयारी है। दरअसल आईआईटी योजना बना रहा है कि कमजोर छात्रों को तीन साल के बाद संस्थान से बाहर कर दिया जाए। ऐसे कमजोर छात्रों को तीन साल बीएससी इंजीनियर की डिग्री देने का विचार किया जा रहा है। संस्थानों के लिए सर्वोच्च निर्णय लेने वाली संस्था आईआईटी काउंसिल ने शुक्रवार को एमटेक शुल्क में बढ़ोतरी के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी।

बता दें कि, अभी बीटेक की ट्यूशन फीस साल की 2 लाख रुपये और एमटेक की 20 हजार रुपये है साथ ही इन संस्थानों में लगभग 10,000 एमटेक छात्रों में से प्रत्येक को 12,400 रुपये मंथली फेलोशिप दी जा रहा है। जिसे ‘शिक्षण सहायता’ भी कहा जाता है। नए फैसले के अनुसार, अब से, केवल कुछ चुनिंदा ‘सक्षम’ छात्रों को ही फेलोशिप मिलेगी, हालांकि उनकी संख्या या योग्यता निर्धारित करने के मापदंड अभी तक स्पष्ट किए गए हैं।

वहीं दो काउंसिल के सदस्यों का कहना है कि एमटेक ट्यूशन फीस अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) की पूरी फीस माफ की जाएगी। वहीं उस घर के छात्र जिनकी वार्षिक आय 1 लाख से 5 लाख रुपये तक है उन सभी को फीस में दो-तिहाई की छूट मिलेगी। बता दें, एमटेक कोर्स के लिए की बढ़ी हुई फीस अगले वर्ष से लागू हो सकती है।

नई दिल्ली। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (IIT) ने एमटेक ट्यूशन फीस को दस गुना बढ़ाने का फैसला लिया है। 2020 के शैक्षणिक सत्र से शुरू होने वाले कोर्स में फीस को बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दिया जाएगा। साथ ही अब मंथली फेलोशिप अवॉर्ड पर भी रोक लगा दी है। वहीं कुछ शिक्षकों का कहना यह भी है कि अब आईआईटी के पढ़ने में कमजोर छात्रों को कोर्स से बाहर करने की भी तैयारी है। दरअसल आईआईटी योजना बना रहा है कि कमजोर छात्रों को तीन साल के बाद संस्थान से बाहर कर दिया जाए। ऐसे कमजोर छात्रों को तीन साल बीएससी इंजीनियर की डिग्री देने का विचार किया जा रहा है। संस्थानों के लिए सर्वोच्च निर्णय लेने वाली संस्था आईआईटी काउंसिल ने शुक्रवार को एमटेक शुल्क में बढ़ोतरी के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। बता दें कि, अभी बीटेक की ट्यूशन फीस साल की 2 लाख रुपये और एमटेक की 20 हजार रुपये है साथ ही इन संस्थानों में लगभग 10,000 एमटेक छात्रों में से प्रत्येक को 12,400 रुपये मंथली फेलोशिप दी जा रहा है। जिसे 'शिक्षण सहायता' भी कहा जाता है। नए फैसले के अनुसार, अब से, केवल कुछ चुनिंदा 'सक्षम' छात्रों को ही फेलोशिप मिलेगी, हालांकि उनकी संख्या या योग्यता निर्धारित करने के मापदंड अभी तक स्पष्ट किए गए हैं। वहीं दो काउंसिल के सदस्यों का कहना है कि एमटेक ट्यूशन फीस अनुसूचित जाति (SC) और अनुसूचित जनजाति (ST) की पूरी फीस माफ की जाएगी। वहीं उस घर के छात्र जिनकी वार्षिक आय 1 लाख से 5 लाख रुपये तक है उन सभी को फीस में दो-तिहाई की छूट मिलेगी। बता दें, एमटेक कोर्स के लिए की बढ़ी हुई फीस अगले वर्ष से लागू हो सकती है।