अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2018: जानिए 21 जून को क्यों मनाया जाता है योग दिवस

नई दिल्ली। 21 जून को पूरी दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। योग एक ऐसा उपहार है जिससे जीवन को एक नई दिशा मिलती है। योग से कई बीमारियों से छुटकारा मिलने के साथ साथ शरीर में ऊर्जा का प्रभावी संचार होता है। दुनियाभर में लोगों ने योग के महत्त्व और इसके प्रति जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है।

Why International Yoga Day Is Celebrated On 21 June :

21 जून को क्यों मनाते हैं अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि यह दिन साल का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी सबको लंबी आयु देता है। इस दिन सूर्य धरती की दृष्टि से उत्तर से दक्षिण की ओर चलना शुरू करता है।

योग से जुड़ी ध्यान देने वाली बातें

  • योग मुद्राएं यानी वह स्थिति जिसमें स्थिरता और सहजता दोनों होते हैं। योग करते समय इसका हमेशा ध्यान रखना चाहिए।
  • योग करने से पहले थोड़ी हल्की एक्सरसाइज करनी चाहिए क्योंकि इससे शरीर में लचीलापन आ जाता है।
  • सुबह या शाम में योग करना अच्छा होता है लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि खाना खाने के करीब 3 घंटे बाद योग करना चाहिए।
  • योग हमेशा योग एक्सपर्ट की देखरेख में ही करें क्योंकि गलत आसन आपके लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।

ये लोग न करें ऐसे योग

  • कमर, गर्दन, सियाटिका दर्द से पीड़ितों को आगे झुकने वाले व्यायाम नहीं करने चाहिए। हृदय रोगी व गर्भवती महिलाओं को श्वास रोकने वाले आसन नहीं करने चाहिए।
  • अल्सर, हर्निया, दिल, बीपी के रोगी और गर्भवती महिलाओं को योगाभ्यास प्रशिक्षक के निरीक्षण में ही करना चाहिए।

21 जून 2015 से हुई शुरुआत

पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी, जिसके बाद 21 जून को ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ घोषित किया गया।

नई दिल्ली। 21 जून को पूरी दुनियाभर में अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है। योग एक ऐसा उपहार है जिससे जीवन को एक नई दिशा मिलती है। योग से कई बीमारियों से छुटकारा मिलने के साथ साथ शरीर में ऊर्जा का प्रभावी संचार होता है। दुनियाभर में लोगों ने योग के महत्त्व और इसके प्रति जागरूक करने के लिए यह दिन मनाया जाता है। 21 जून को क्यों मनाते हैं अंतरराष्ट्रीय योग दिवस अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 21 जून को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि यह दिन साल का सबसे लंबा दिन होता है और योग भी सबको लंबी आयु देता है। इस दिन सूर्य धरती की दृष्टि से उत्तर से दक्षिण की ओर चलना शुरू करता है। योग से जुड़ी ध्यान देने वाली बातें
  • योग मुद्राएं यानी वह स्थिति जिसमें स्थिरता और सहजता दोनों होते हैं। योग करते समय इसका हमेशा ध्यान रखना चाहिए।
  • योग करने से पहले थोड़ी हल्की एक्सरसाइज करनी चाहिए क्योंकि इससे शरीर में लचीलापन आ जाता है।
  • सुबह या शाम में योग करना अच्छा होता है लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि खाना खाने के करीब 3 घंटे बाद योग करना चाहिए।
  • योग हमेशा योग एक्सपर्ट की देखरेख में ही करें क्योंकि गलत आसन आपके लिए नुकसानदायक हो सकते हैं।
ये लोग न करें ऐसे योग
  • कमर, गर्दन, सियाटिका दर्द से पीड़ितों को आगे झुकने वाले व्यायाम नहीं करने चाहिए। हृदय रोगी व गर्भवती महिलाओं को श्वास रोकने वाले आसन नहीं करने चाहिए।
  • अल्सर, हर्निया, दिल, बीपी के रोगी और गर्भवती महिलाओं को योगाभ्यास प्रशिक्षक के निरीक्षण में ही करना चाहिए।
21 जून 2015 से हुई शुरुआत पहली बार यह दिवस 21 जून 2015 को मनाया गया, जिसकी पहल भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 27 सितम्बर 2014 को संयुक्त राष्ट्र महासभा में अपने भाषण से की थी, जिसके बाद 21 जून को 'अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस' घोषित किया गया।