जिस्म के बाजारों को क्यों कहा जाता है “रेड लाइट एरिया” !

रोज हमारे सामने बहुत से ऐसे शब्द आते है जिनका हमें मालूम नहीं होता है। लेकिन फिर भी हम जानने की कोशिस नहीं करते है। जैसे जिस्म बाज़ारों को रेड लाइट एरिया कहा जाता है। इस बारे में कई मान्यताएँ प्रचलित हैं। हज़ारों वर्षों से जिस्म बाज़ार का लाल रंग से रिश्ता रहा है।

“रेड लाइट एरिया” का मतलब:

{ यह भी पढ़ें:- एक ऐसा देश जहां जरुरी है शादी से पहले शारीरिक संबंध बनाना ? }

लाल रंग को कामुक और संवेदनशील माना जाता रहा है। प्रथम विश्व युद्ध के दौरान बेल्जियम और फ्रांस के कई वेश्यालयों का वर्गीकरण किया गया था। अधिकारियों के लिए वेश्यालय के सामने नीले रंग का कोई चिन्ह लगाया जाता था।

वहीं दूसरे दर्ज़े के लोगों के लिए लाल रंगों के चिन्ह प्रयोग में लाए जाते थे। लाल रंग और वेश्याओं के बीच संबंधों के एक धार्मिक किताब से भी कुछ उदाहरण मिले हैं। इसके अनुसार रहाब नाम की वेश्या अपने घर की पहचान के लिए लाल रंग की रस्सी का प्रयोग करती थी।

{ यह भी पढ़ें:- एक जगह ऐसी भी जहां देह व्यापार करना है परंपरा }

यौन-कर्मियों के स्थल यानी ज़िस्म बाज़ारों को वैधता प्रदान करने वाली पहल की सुगबुगाहट भारत में फिर से होने लगी है।

Loading...