National Girl Child Day 2020: जाने क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय बालिका दिवस और क्या है इसका इतिहास

National Girl Child Day 2020: जाने क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय बालिका दिवस और क्या है इसका इतिहास
National Girl Child Day 2020: जाने क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय बालिका दिवस और क्या है इसका इतिहास

नई दिल्ली। देशभर में हर साल 24 जनवरी को नेशनल गर्ल चाइल्ड डे (National Girl Child Day) यानी कि राष्ट्रीय बालिका दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद देश की लड़कियों को हर मामले में अधिक से अधिक सहयोग देना और सुविधाएं मुहैया कराना है। आइए जानते हैं इसके इतिहास और इस दिन को मनाने की वजह के बारे में…..

Why We Celebrate National Girl Child Day 2020 :

नेशनल गर्ल चाइल्ड डे का इतिहास

भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसकी पहल 2008 में महिला और बाल विकास मंत्रालय और भारत सरकार द्वारा की गई थी।

इस वजह से मनाते हैं नेशनल गर्ल चाइल्ड डे

  • बालिकाओं के अधिकारों के प्रति जागरुकता बढ़ाना।
  • विभिन्न अत्याचार और जिन असमानताओं का बालिकाएं सामना करती हैं उनके बारे में मंच पर बात करना।
  • लड़कियों के शिक्षा और स्वास्थ्य का महत्व समझाने और इसे बढ़ावा देने के लिए।

    समाज में लड़कियों की स्थिति बेहतर हो सके और उन्हें हर वो मौका और सुविधाएं मिलें जो लड़कों को बिना कहे ही मिल जाते हैं। इसके अलावा उन्हें फैसले लेने का अधिकार हो चाहे फैसले घर के बारे में हो या फिर निजी जिंदगी के।

    इस दिन को कैसे मनाते हैं खास

    नेशनल गर्ल चाइल्ड के तहत तमाम कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इसमें लड़की बचाओ अभियान, सही लिंग अनुपात और लड़कियों के लिए सुरक्षित माहौल तैयार करने जैसे कार्यक्रम शामिल हैं।

नई दिल्ली। देशभर में हर साल 24 जनवरी को नेशनल गर्ल चाइल्ड डे (National Girl Child Day) यानी कि राष्ट्रीय बालिका दिवस के तौर पर मनाया जाता है। इस दिन को मनाने का मकसद देश की लड़कियों को हर मामले में अधिक से अधिक सहयोग देना और सुविधाएं मुहैया कराना है। आइए जानते हैं इसके इतिहास और इस दिन को मनाने की वजह के बारे में..... नेशनल गर्ल चाइल्ड डे का इतिहास भारत में हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसकी पहल 2008 में महिला और बाल विकास मंत्रालय और भारत सरकार द्वारा की गई थी। इस वजह से मनाते हैं नेशनल गर्ल चाइल्ड डे
  • बालिकाओं के अधिकारों के प्रति जागरुकता बढ़ाना।
  • विभिन्न अत्याचार और जिन असमानताओं का बालिकाएं सामना करती हैं उनके बारे में मंच पर बात करना।
  • लड़कियों के शिक्षा और स्वास्थ्य का महत्व समझाने और इसे बढ़ावा देने के लिए। समाज में लड़कियों की स्थिति बेहतर हो सके और उन्हें हर वो मौका और सुविधाएं मिलें जो लड़कों को बिना कहे ही मिल जाते हैं। इसके अलावा उन्हें फैसले लेने का अधिकार हो चाहे फैसले घर के बारे में हो या फिर निजी जिंदगी के। इस दिन को कैसे मनाते हैं खास नेशनल गर्ल चाइल्ड के तहत तमाम कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। इसमें लड़की बचाओ अभियान, सही लिंग अनुपात और लड़कियों के लिए सुरक्षित माहौल तैयार करने जैसे कार्यक्रम शामिल हैं।