1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. UP Election 2022: क्या फाजिलनगर में स्वामी प्रसाद मौर्य दौड़ा पाएंगे साइकिल या फिर खिलेगा कमल?

UP Election 2022: क्या फाजिलनगर में स्वामी प्रसाद मौर्य दौड़ा पाएंगे साइकिल या फिर खिलेगा कमल?

भाजपा छोड़कर सपा का दामन थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिलनगर से चुनावी मैदान में हैं। वहीं भाजपा ने सुरेंद्र कुशवाहा को मैदान में उतार कर स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें खड़ी कर दी  है। दरसल भाजपा और सपा ने फाजिलनगर के एक ही जाती के उम्मीदवारों पर दांव खेला है।

By प्रिया सिंह 
Updated Date

UP Election 2022:  भाजपा छोड़कर सपा का दामन थामने वाले स्वामी प्रसाद मौर्य फाजिलनगर से चुनावी मैदान में हैं। वहीं भाजपा ने सुरेंद्र कुशवाहा को मैदान में उतार कर स्वामी प्रसाद मौर्य की मुश्किलें खड़ी कर दी  है। दरसल भाजपा और सपा ने फाजिलनगर के एक ही जाती के उम्मीदवारों पर दांव खेला है।

पढ़ें :- UP Legislative Council Elections : स्वामी प्रसाद मौर्य कल करेंगे नामांकन,अखिलेश यादव रहेंगे मौजूद

ऐसे में अपनी परमपरागत सीट छोड़कर फाजिलनगर आए स्वामी प्रसाद मौर्य के लिए जीत हासिल करना बड़ी चुनौती है। हंलाकि वह आए दिन दावें कर रहे है कि फाजिलनगर में सपा की साइकिल सबसे तेज दौड़ कर जीत हासिल करेगी।

बता दें कि रविवार को समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव  फाजिलनगर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था कि अगर स्वामी प्रसाद मौर्य साल 2017 में सपा में शामिल हो गए होते तो प्रदेश में फिर से सपा की सरकार बन गई होती और जनता को पांच साल झेलने कि जरूरत नही पड़ती।

इस बार का जो मुकाबला है वह बेहद ही दिलचस्प हो गया है। सभी पार्टियां यहां पर जमकर रैलियां रोड शो, सभाएं कर रहे हैं और एक दूसरे पर जमकर वार कर रहे है।

अगर हम बात करे कि साल 2017 में किस पार्टी ने कितने वोटों से जीत हासिल कि तो भाजपा को यहां एक लाख से अधिक वोट मिला था। जबकि  सपा को 60 से अधिक वोट मिला था।

पढ़ें :- Mlc election: सपा ने स्वामी प्रसाद मौर्य को विधान परिषद के लिए दिया टिकट, 7 जून को करेंगे नामांकन

अगर हम बात करें कि यहां पर सबसे अधिक जाति मुदाय के वोटों की तो फाजिनगर में कुल 3 लाख 98 हजार 835 मतदाता है। मुसलमान    92 हजार
अनुसूचित जाति   45 हजार
कुशवाहा     38 हजार, यादव     30 हजार, चनऊ     33 हजार, वैश्य     22 हजार, ब्राह्मण     15 हजार, कुर्मी     10 हजार,गोंड     15 हजार, निषाद     8 हजार, भूमिहार     10 हजार, कमकर        10 हजार, अन्य     70 हजार

जिसके बाद से मुकाबला इतना दिलचस्प हो गया है कि पार्टियां जाती समीकर को लेकर चुनाव प्रचार कर रही है।

आप को बता दें कि कुशीनगर में सात विधानसभा सीटें है 2017 में भाजपा ने यहां पर 5 सीटों पर जीत दर्ज की जबकि उसके सहयोगी दल रहे सुभसा ने एक सीट और कांग्रेस ने एक सीट पर जीत दर्ज की थी। ऐसे में बाजपा के सामने इस बार पिछला रिकाड दोहराने की कड़ी चुनौती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...