यहां बेड पर सफेद चादर बिछाकर वर्जिनिटी का सबूत मांगती है पंचायत

woman3
यहाँ बेड पर सफेद चादर बिछाकर वर्जिनिटी का सबूत मांगती है पंचायत

आज भी इस समाज में महिलाओं को कदम-कदम पर अपनी पवित्रता का सबूत देना पड़ता है। ऐसा ही कट्टर समाज है पुणे के कंजारभाट। यहां आज भी एक ऐसी रूढ़िवादी परंपरा को निभाया जाता है। जहां महिलाओं को शादी के बाद ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ से गुजरना पड़ता है। इस ‘वर्जिनिटी टेस्ट’ से अगर शादीशुदा जोड़ा इनकार करता है तो उसका समाज से बहिष्कार कर दिया जाता है।

महिलाओं की शादी भी टूट चुकी है:
पुणे मिरर के अनुसार इस परंपरा के तहत सुहागरात के समय पंचायत के लोग शादीशुदा जोड़े के बेडरूम के बाहर पंचायत लगाकर बैठ जाते हैं। बिस्तर पर सफेद चादर बिछा दी जाती है और अगली सुबह अगर चादर पर ‘खून’ दिखा तो ठीक नहीं तो फिर दुल्हन पर कई तरह के आरोप लगाए हैं।

{ यह भी पढ़ें:- वाइफ टूरिज्म के नाम से फेमस है यह जगह, दुल्हन के लिए आते है कुवारे लड़के }

इसके खिलाफ चला था आंदोलन:
मध्यप्रदेश के शहडोल जिले में शादी से पहले लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट कराया जाता था। यहां 2009 में वाम नेता ने इसके खिलाफ आंदोलन भी चलाया था। यहां एक सामूहिक शादी में लड़कियों का वर्जिनिटी टेस्ट कराया गया था। जिसमें 150 लड़कियां गर्भवती पाई गईं थी।

{ यह भी पढ़ें:- सलमान, अभिषेक सहित कई बॉलीवुड स्टार का रिश्ता केवल सगाई तक चला }

आज भी इस समाज में महिलाओं को कदम-कदम पर अपनी पवित्रता का सबूत देना पड़ता है। ऐसा ही कट्टर समाज है पुणे के कंजारभाट। यहां आज भी एक ऐसी रूढ़िवादी परंपरा को निभाया जाता है। जहां महिलाओं को शादी के बाद 'वर्जिनिटी टेस्ट' से गुजरना पड़ता है। इस 'वर्जिनिटी टेस्ट' से अगर शादीशुदा जोड़ा इनकार करता है तो उसका समाज से बहिष्कार कर दिया जाता है। महिलाओं की शादी भी टूट चुकी है: पुणे मिरर के अनुसार इस परंपरा के…
Loading...