दहेज के लिए विवाहिता को जिंदा जलाया, जिंदगी और मौत की जंग रही है लड़

d

लखनऊ।
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मडिय़ांव के मोहिबुल्लापुर के कसाई बाड़ा मोहल्ले में रहने वाली एक विवाहिता को दहेज के चलते जिंदा जला दिया गया। गंभीर रूप से घायल महिला को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस मामले में मायके वालों ने ससुरालवालों पर दहेज की मांग पूरी न होने पर विवाहिता को जला कर मारने के प्रयास का आरोप लगाया है। पुलिस ने पति समेत पांच ससुरालीजनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है।

Woman Burnt Alive By In Laws For Dowry In Lucknow :

इंस्पेक्टर मडिय़ांव संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अलीगंज निवासी 27 वर्षीय खुशबू की शादी करीब एक साल पहले मडिय़ांव मोहिबुल्लापुर के कसाई बाड़ा मोहल्ला निवासी अंसार के साथ हुई थी। अंसार पुताई का काम करता है। दोनों से एक पांच महीने का बेटा भी है। खुशबू के भाई आलम का आरोप है कि शादी के बाद कम दहेज मिलने का आरोप लगाकर अंसार और उसके घरवाले खुशबू को प्रताडि़त कर रहे थे। प्रताडऩा से तंग आकर खुशबू मायके में रह रही थी। भाई के मुताबिक 28 जनवरी को अंसार अपने परिवार वालों के साथ घर आया और अपनी गलती मानते हुए खुशबू को ससुराल ले गया था। शुक्रवार की देर रात खुशबू संदिग्ध परिस्थितियों में आग से झुलस गयी। बुरी तरह से झुलसी खुशबू को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। खबर पाकर मायके वाले भी अस्पाल पहुंच गये। खुशबू के भाई ने बताया कि खुशबू ने अस्पताल में पुलिस को बयान दिया है कि शुक्रवार की रात वह कमरे में सो रही थी तभी उसके ऊपर कुछ ज्वलनशील पदार्थ डाला गया, जिससे वह जग गयी तभी उसके पति अंसार ने माचिस से आग लगा दिया। पीडि़त का शोर सुनकर आसपास के लोग मदद के लिए पहुंचे और उसको सबसे पहले ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां से डॉक्टरों ने उसे सिविल अस्पताल रेफर कर दिया। वहीं खुशबू के पति का कहना है खुशबू ने स्वयं ही आग लगायी है। बुझाने के प्रयास में वह भी झुलस गया, जिसे बलरामपुर अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इस मामले में खुशबू के मायके वालों ने खुशबू के पति अंसार,ससुर इस्माइल, सास और दो देवर सुहैल व उवैश के खिलाफ मडिय़ांव कोतवाली में हत्या के प्रयास और दहेज उत्पीडऩ की रिपोर्ट दर्ज ेकरायी है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मडिय़ांव के मोहिबुल्लापुर के कसाई बाड़ा मोहल्ले में रहने वाली एक विवाहिता को दहेज के चलते जिंदा जला दिया गया। गंभीर रूप से घायल महिला को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इस मामले में मायके वालों ने ससुरालवालों पर दहेज की मांग पूरी न होने पर विवाहिता को जला कर मारने के प्रयास का आरोप लगाया है। पुलिस ने पति समेत पांच ससुरालीजनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली है। इंस्पेक्टर मडिय़ांव संतोष कुमार सिंह ने बताया कि अलीगंज निवासी 27 वर्षीय खुशबू की शादी करीब एक साल पहले मडिय़ांव मोहिबुल्लापुर के कसाई बाड़ा मोहल्ला निवासी अंसार के साथ हुई थी। अंसार पुताई का काम करता है। दोनों से एक पांच महीने का बेटा भी है। खुशबू के भाई आलम का आरोप है कि शादी के बाद कम दहेज मिलने का आरोप लगाकर अंसार और उसके घरवाले खुशबू को प्रताडि़त कर रहे थे। प्रताडऩा से तंग आकर खुशबू मायके में रह रही थी। भाई के मुताबिक 28 जनवरी को अंसार अपने परिवार वालों के साथ घर आया और अपनी गलती मानते हुए खुशबू को ससुराल ले गया था। शुक्रवार की देर रात खुशबू संदिग्ध परिस्थितियों में आग से झुलस गयी। बुरी तरह से झुलसी खुशबू को इलाज के लिए सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। खबर पाकर मायके वाले भी अस्पाल पहुंच गये। खुशबू के भाई ने बताया कि खुशबू ने अस्पताल में पुलिस को बयान दिया है कि शुक्रवार की रात वह कमरे में सो रही थी तभी उसके ऊपर कुछ ज्वलनशील पदार्थ डाला गया, जिससे वह जग गयी तभी उसके पति अंसार ने माचिस से आग लगा दिया। पीडि़त का शोर सुनकर आसपास के लोग मदद के लिए पहुंचे और उसको सबसे पहले ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां से डॉक्टरों ने उसे सिविल अस्पताल रेफर कर दिया। वहीं खुशबू के पति का कहना है खुशबू ने स्वयं ही आग लगायी है। बुझाने के प्रयास में वह भी झुलस गया, जिसे बलरामपुर अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इस मामले में खुशबू के मायके वालों ने खुशबू के पति अंसार,ससुर इस्माइल, सास और दो देवर सुहैल व उवैश के खिलाफ मडिय़ांव कोतवाली में हत्या के प्रयास और दहेज उत्पीडऩ की रिपोर्ट दर्ज ेकरायी है।