VIDEO: सऊदी में फंसी इस भारतीय महिला का दर्द सुन आंख भर आएगी

सऊदी अरब में फंसी पंजाब की लड़की का रोत-बिलखता एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वो संगरूर के सांसद भगवंत मान से मदद की गुहार लगा रही है। वीडियो में उसने बताया कि वो गरीब परिवार से ताल्लुक रखती है और एक साल पहले सऊदी अरब के द्वादमी शहर में आई थी। जहां अब उसे टॉर्चर किया जा रहा है।

Woman Of Punjab Trapped In Saudi Arabia She Asked Help From Aap Mp Bhagwant Mann :

वीडियो में महिला कह रही है, भगवंत मान साहब आप प्लीज मेरी मदद कीजिए। मैं यहां बहुत परेशान और दुखी हूं। यहां पिछले एक साल से मुझे टॉर्चर किया जा रहा है। आपने होशियारपुर की एक लड़की को बचाया था, आप मुझे भी बचा लीजिए। मुझे भारत लौटना है। मैं आपकी बेटी जैसी हूं। मैं यहां बुरी तरह फंस चुकी हूं। मुझे इस बात की जरा भी खबर नहीं थी कि मेरे साथ ऐसा कुछ हो जाएगा।

इसके अलावा महिला ने यह भी बताया है कि उसने सऊदी अरब पुलिस से भी मदद मांगी थी, लेकिन पुलिस ने उसे स्टेशन से बाहर का रास्ता दिखा दिया और उसकी मदद नहीं की। महिला ने बताया कि वहां उसे एक कमरे में बंद करके रखा जाता है और उसे बाहर भी नहीं निकलने दिया जाता। किसी तरह वह पुलिस स्टेशन पहुंची थी, लेकिन वहां से भी उसे कोई मदद नहीं मिली।

सऊदी अरब में फंसी पंजाब की लड़की का रोत-बिलखता एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस वीडियो में वो संगरूर के सांसद भगवंत मान से मदद की गुहार लगा रही है। वीडियो में उसने बताया कि वो गरीब परिवार से ताल्लुक रखती है और एक साल पहले सऊदी अरब के द्वादमी शहर में आई थी। जहां अब उसे टॉर्चर किया जा रहा है।वीडियो में महिला कह रही है, भगवंत मान साहब आप प्लीज मेरी मदद कीजिए। मैं यहां बहुत परेशान और दुखी हूं। यहां पिछले एक साल से मुझे टॉर्चर किया जा रहा है। आपने होशियारपुर की एक लड़की को बचाया था, आप मुझे भी बचा लीजिए। मुझे भारत लौटना है। मैं आपकी बेटी जैसी हूं। मैं यहां बुरी तरह फंस चुकी हूं। मुझे इस बात की जरा भी खबर नहीं थी कि मेरे साथ ऐसा कुछ हो जाएगा।इसके अलावा महिला ने यह भी बताया है कि उसने सऊदी अरब पुलिस से भी मदद मांगी थी, लेकिन पुलिस ने उसे स्टेशन से बाहर का रास्ता दिखा दिया और उसकी मदद नहीं की। महिला ने बताया कि वहां उसे एक कमरे में बंद करके रखा जाता है और उसे बाहर भी नहीं निकलने दिया जाता। किसी तरह वह पुलिस स्टेशन पहुंची थी, लेकिन वहां से भी उसे कोई मदद नहीं मिली।