लता मंगेशकर बन चैरिटी के नाम पर महिला करती थी ठगी, अब है फरार

मुंबई। बॉलीवुड की मशहूर गायिका लता मंगेशकर एक ऐसा शख्सियत है, जिसे भारत में किसी परिचय की जरूरत नहीं है। शायद इसी बात फायदा उठाकर एक ठग महिला ने लता मंगेशकर के नाम का प्रयोग चैरिटी के काम ​के लिए किया। पुलिस को शिकायत मिली है कि बड़े बड़े उद्योगपतियों को यह महिला लता मंगेशकर के नाम से पत्र भेजकर चैरिटी के नाम पर धन उगाही कर रही थी। फिलहाल पुलिस इस महिला की तलाश में जुटी है।

Woman Swindles Many On Name Of Lata Mangeshkar :

बताया जा रहा है कि मुंबई के नालासोपारा की रहने वाली रेवती खरे नाम की इस महिला ने सबसे पहले सिंगर लता मंगेशकर का फर्जी लेटर पैड बनवाया। इसी लेटर पैड पर वह नामी गिरामी लोगों और एनजीओ से जुड़कर समाजसेवा करने वाले उद्योग​पतियों से संपर्क बनकार चैरिटी के नाम पर धन उगाही की। इस बात से खुलासा तब हुआ जब ठगी का शिकार हुए एक व्यक्ति ने लता मंगेशकर को फोन पर उनके द्वारा अंजाम दिए जा रहे सामाजिक कार्यों के लिए शुभकामनाएं दी। जब लता मंगेशकर को इस विषय की जानकारी हुई तो उन्होंने अपने पीए से तुरंत इस मामले में शिकायत दर्ज कराने को कहा।

पुलिस की जांच में पता चला कि रेवती कई बड़ी पार्टियों में जाती थी और खुद को लता मंगेशकर का सहयोगी बताकर लोगों से अपने रिश्ते बनाती थी। लोग भी उसे लता मंगेशकर का करीबी समझकर उसके साथ घुल मिल जाते थे। जिसके बाद रेवती लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाती थी। लता मंगेशकर के लेटर पैड पर आने वाली चैरिटी रिक्वेस्ट पर लोग बिना सोचे समझे लाखों की रकम दान में दे देतें थे।

इस तरह बड़ी चालाकी से रेवती खरे ने कई पब्लिशिंग कंपनियों से भी पैसे लिए है। बताया जा रहा है कि ये महिला लता मंगेशकर के ऊपर किताब लिखने और उनसे मीटिंग फिक्स कराने के नाम पर ऐसा करती थी। फिलहाल इस महिला की तलाश की जा रही है।

मुंबई। बॉलीवुड की मशहूर गायिका लता मंगेशकर एक ऐसा शख्सियत है, जिसे भारत में किसी परिचय की जरूरत नहीं है। शायद इसी बात फायदा उठाकर एक ठग महिला ने लता मंगेशकर के नाम का प्रयोग चैरिटी के काम ​के लिए किया। पुलिस को शिकायत मिली है कि बड़े बड़े उद्योगपतियों को यह महिला लता मंगेशकर के नाम से पत्र भेजकर चैरिटी के नाम पर धन उगाही कर रही थी। फिलहाल पुलिस इस महिला की तलाश में जुटी है।बताया जा रहा है कि मुंबई के नालासोपारा की रहने वाली रेवती खरे नाम की इस महिला ने सबसे पहले सिंगर लता मंगेशकर का फर्जी लेटर पैड बनवाया। इसी लेटर पैड पर वह नामी गिरामी लोगों और एनजीओ से जुड़कर समाजसेवा करने वाले उद्योग​पतियों से संपर्क बनकार चैरिटी के नाम पर धन उगाही की। इस बात से खुलासा तब हुआ जब ठगी का शिकार हुए एक व्यक्ति ने लता मंगेशकर को फोन पर उनके द्वारा अंजाम दिए जा रहे सामाजिक कार्यों के लिए शुभकामनाएं दी। जब लता मंगेशकर को इस विषय की जानकारी हुई तो उन्होंने अपने पीए से तुरंत इस मामले में शिकायत दर्ज कराने को कहा।पुलिस की जांच में पता चला कि रेवती कई बड़ी पार्टियों में जाती थी और खुद को लता मंगेशकर का सहयोगी बताकर लोगों से अपने रिश्ते बनाती थी। लोग भी उसे लता मंगेशकर का करीबी समझकर उसके साथ घुल मिल जाते थे। जिसके बाद रेवती लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाती थी। लता मंगेशकर के लेटर पैड पर आने वाली चैरिटी रिक्वेस्ट पर लोग बिना सोचे समझे लाखों की रकम दान में दे देतें थे। इस तरह बड़ी चालाकी से रेवती खरे ने कई पब्लिशिंग कंपनियों से भी पैसे लिए है। बताया जा रहा है कि ये महिला लता मंगेशकर के ऊपर किताब लिखने और उनसे मीटिंग फिक्स कराने के नाम पर ऐसा करती थी। फिलहाल इस महिला की तलाश की जा रही है।