महिला टीचर 13 साल के छात्र के साथ बनाती थी संबंध, कोर्ट ने सुनाई 20 साल की सजा

woman
महिला टीचर 13 साल के छात्र के साथ बनाती थी संबंध, कोर्ट ने सुनाई 20 साल की कैद

नई दिल्ली। एक महिला टीचर को अपनी कार और क्लासरूम में छात्र से संबंध बनाने के लिए 20 साल जेल की सजा सुनाई गई है। महिला टीचर पर आरोप है कि वह 13 साल के छात्र को अश्लील मैसेज भी भेजा करती थी। इस मामले का खुलासा बच्चे के अभिभावकों ने एक एप के जरिए किया है। मामला अमेरिका के एरिजोना का है।

Woman Teacher Make Out Boy Classroom Car Jailed For 20 Years :

ये मामला अमेरिका के एरिजोना का है। कोर्ट में सुनवाई के दौरान 28 साल की शादीशुदा महिला टीचर ब्रिटनी जमोरा ने कहा- ‘मैं एक अच्छी और सच्ची इंसान हूं जिसने गलती की और इसके लिए काफी अफसोस है।’ टीचर ने कहा कि वह समाज के लिए किसी भी तरह खतरा नहीं है।

इसी के साथ उसने कोर्ट से कहा कि वह जेल के अंदर पढ़ाई करना चाहती है ताकि जेल से बाहर आने के बाद वो नई जिंदगी की शुरुआत कर सके। हालांकि कोर्ट के फैसले में ये शर्त रखी गई है कि टीचर के अच्छे व्यवहार के बदले जेल से नहीं छोड़ा जाएगा। जेल से बाहर आने के बाद टीचर को सेक्स ऑफेंडर रजिस्टर में नाम दर्ज कराना होगा। महिला टीचर को मार्च 2018 में गिरफ्तार कर लिया गया था।

बताया जाता है कि पीड़ित बच्चे के अभिभावकों ने जब बेटे के व्यवहार में तब्दीली देखी तो उन्होंने पैरेंटल कंट्रोल एप के जरिए बच्चे के फोन को कनेक्ट कर दिया और उसकी हर गतिविधियों पर नजर रखने लगे। एप के जरिए ही पैरेंट्स को छात्र और टीचर के बीच होने वाली आपत्तिजनक बातचीत की जानकारी मिली। पूछताछ के बाद बच्चे ने टीचर से जुड़ी हर जानकारी उन्हें बता दी और संबंध बनाने की बात भी स्वीकारी।

नई दिल्ली। एक महिला टीचर को अपनी कार और क्लासरूम में छात्र से संबंध बनाने के लिए 20 साल जेल की सजा सुनाई गई है। महिला टीचर पर आरोप है कि वह 13 साल के छात्र को अश्लील मैसेज भी भेजा करती थी। इस मामले का खुलासा बच्चे के अभिभावकों ने एक एप के जरिए किया है। मामला अमेरिका के एरिजोना का है। ये मामला अमेरिका के एरिजोना का है। कोर्ट में सुनवाई के दौरान 28 साल की शादीशुदा महिला टीचर ब्रिटनी जमोरा ने कहा- 'मैं एक अच्छी और सच्ची इंसान हूं जिसने गलती की और इसके लिए काफी अफसोस है।' टीचर ने कहा कि वह समाज के लिए किसी भी तरह खतरा नहीं है। इसी के साथ उसने कोर्ट से कहा कि वह जेल के अंदर पढ़ाई करना चाहती है ताकि जेल से बाहर आने के बाद वो नई जिंदगी की शुरुआत कर सके। हालांकि कोर्ट के फैसले में ये शर्त रखी गई है कि टीचर के अच्छे व्यवहार के बदले जेल से नहीं छोड़ा जाएगा। जेल से बाहर आने के बाद टीचर को सेक्स ऑफेंडर रजिस्टर में नाम दर्ज कराना होगा। महिला टीचर को मार्च 2018 में गिरफ्तार कर लिया गया था। बताया जाता है कि पीड़ित बच्चे के अभिभावकों ने जब बेटे के व्यवहार में तब्दीली देखी तो उन्होंने पैरेंटल कंट्रोल एप के जरिए बच्चे के फोन को कनेक्ट कर दिया और उसकी हर गतिविधियों पर नजर रखने लगे। एप के जरिए ही पैरेंट्स को छात्र और टीचर के बीच होने वाली आपत्तिजनक बातचीत की जानकारी मिली। पूछताछ के बाद बच्चे ने टीचर से जुड़ी हर जानकारी उन्हें बता दी और संबंध बनाने की बात भी स्वीकारी।